Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

एक अलबेला राजू ( हास्य कलाकार स्व राजू श्रीवास्तव के नाम )

आसमान से टूटा फिर आज एक सितारा ,
दुनिया के रंगमंच से उतर कर एक किरदार ।
खो गया या ओझल हो गया अंधेरों में कहीं वो ।
जलवे अपने दिखाकर एक उम्दा अदाकार।
लोगों की बेनूर सी,नीरस जिंदगी में रंग भरता था,
हंसी ,मजाक ,चुटकुले सुनाकर हंसाता हर बार ।
चला गया अचानक कहकहो की महफिल छोड़कर,
वोह अनूठा सा मगर भला सा हास्य कलाकार।
थाम के तो रखी थी सांसों की डोर कसकर ,
मगर फिर भी हा दुर्भाग्य ! छूट ही गई आखिरकार ।
समग्र देशवासियों के हृदय में राज करने वाला,”राजू”
एक लंबे अंतहीन सफर की और चला ही गया।
अब तो बस यादें ही रह गई है उसकी जीवन में ,
मगर रहती दुनिया तक अमर रहेगा वो सितारा,
जो करता था लोगों को खुश हंसा हंसाकर ।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"नवाखानी"
Dr. Kishan tandon kranti
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
विमला महरिया मौज
समय
समय
Swami Ganganiya
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
🙅महा-राष्ट्रवाद🙅
🙅महा-राष्ट्रवाद🙅
*प्रणय प्रभात*
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
Pramila sultan
आबाद मुझको तुम आज देखकर
आबाद मुझको तुम आज देखकर
gurudeenverma198
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
*यात्रा पर लंबी चले, थे सब काले बाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*पयसी प्रवक्ता*
*पयसी प्रवक्ता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारे ख्याब
हमारे ख्याब
Aisha Mohan
श्री कृष्ण अवतार
श्री कृष्ण अवतार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
Shweta Soni
वक्त की जेबों को टटोलकर,
वक्त की जेबों को टटोलकर,
अनिल कुमार
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
खुद से मुहब्बत
खुद से मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...