Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

एकादशी

अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के नाम से जाना जाता है आज उत्पन्ना एकादशी है. उत्पन्ना एकादशी के दिन ही श्रीविष्णु के शरीर से एकादशी माता का जन्म बद्रीनाथ धाम में हुआ था क्योंकि ये एकादशी उपवास की उत्पत्ति का प्रतीक है इसलिए इसे उत्पत्तिका, उत्पन्ना और वैतरणी एकादशी कहा जाता है. इसी एकादशी से साल भर के एकादशी व्रत की शुरुआत की जाती है हेमंत ऋतु में आने वाली इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है. पुराणों के अनुसार कि इसी दिन एकादशी माता ने मूर दैत्य का वध करके देवताओं की रक्षा की थी जो सोए हुए भगवान विष्णु को मारने का इरादा रखता था.इस पर भगवान विष्णु ने प्रसन्न होकर माता को वरदान दिया था कि देवी तूने देवताओं की रक्षा की है। इसलिए एकादशी के नाम से तेरी पूजा होगी तथा तेरे नाम लेने से हर प्राणी को मुक्ति मोक्ष मिलेगा। देवी एकादशी को भगवान विष्णु की सुरक्षात्मक शक्तियों में से एक माना जाता है. …आप सभी को उत्पन्ना एकादशी की हार्दिक शुभकामना ..माता एकादशी और भगवान विष्णु से यही प्रार्थना कि सभी रोग, शोक से दूर रहे व चारों ओर सुख, समृद्धि और खुशहाली हो। सबके जीवन में मंगल एवं शुभत्व का दीप देदीप्यमान रहे,अनवरत आनंद की वर्षा होती रहे, यही कामना करता हूं। उनकी कृपा आप सभी पर बनी रहे ..’ॐ नमो भगवते वासुदेवाय’ 🙏🙏🌹🌹🙏🙏

74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिछले पन्ने 3
पिछले पन्ने 3
Paras Nath Jha
विषय – मौन
विषय – मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इश्क़ में ना जाने क्या क्या शौक़ पलता है,
इश्क़ में ना जाने क्या क्या शौक़ पलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* ज्योति जगानी है *
* ज्योति जगानी है *
surenderpal vaidya
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Pratibha Pandey
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
Indu Singh
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*मिलते जीवन में गुरु, सच्चे तो उद्धार【कुंडलिया】*
*मिलते जीवन में गुरु, सच्चे तो उद्धार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
Phool gufran
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
जालोर के वीर वीरमदेव
जालोर के वीर वीरमदेव
Shankar N aanjna
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
■ सब्र और संघर्ष का सुफल।
■ सब्र और संघर्ष का सुफल।
*प्रणय प्रभात*
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
बदल डाला मुझको
बदल डाला मुझको
Dr fauzia Naseem shad
खुदा की हर बात सही
खुदा की हर बात सही
Harminder Kaur
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
सुंदरता विचारों व चरित्र में होनी चाहिए,
Ranjeet kumar patre
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
प्यासे को
प्यासे को
Santosh Shrivastava
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
Loading...