Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

एकांत

डॉ अरुण कुमार शास्त्री * एक अबोध बालक **अरुण अतृप्त

एकांत

जिंदगी से उसकी मुझको ये सबक मिला ।
वो जैसा दीखता था वैसा तो नही मिला ।
पंछियों सा चहचाहता फुदकता जो मिला ।
घर के अँधेरे अकेले कमरे में वो ही शख्स
मुझको खुदा कसम सुबकता हुआ मिला ।
मैं अपनी उदासियों में गमतर परीशांन था ।
गोया कि पूरी कायनात में मुझसा नहीं मिला ।
ये राज मुझपे समझिये बस उसी रोज़ खुला जिस ।
रोज़ मिरे काँधे रखके सर वो रोता हुआ मिला ।
सुबकियों के बीच मुझसे वो सब कुछ कह गया ।
गुलाबी डोरे लिए मिचमिची आँखों से वो ।
कुछ कुछ मेरी आँखों में खोजता मिला ।
तकलीफ मिरि सच मानिये इस कदर बढ़ गई ।
पेशानी मिरि पसीने से जब तर बतर हुई ।
मुँह में मेरे नमकीन सा पानी उतर गया ।
माथा क्या चूमा उसका मेरी आँख भर गई ।
कहने को यूँ तो बोलिये मेरे पास था भी क्या ।
टूटा खिलौना उसका क्या मैं जोड़ भी सका ।
अज़ब अजाब से अपने खुदा से लड़ पड़ा ।
यकीं मानिये
अज़ब अजाब से अपने खुदा से लड़ पड़ा ।
राहत मिले उसको था इस बात की जिद्द पे मैं अड़ा ।
जिंदगी से उसकी मुझको ये सबक मिला ।
वो जैसा दीखता था वैसा तो नही मिला ।
पंछियों सा चहचाहता फुदकता जो मिला ।
घर के अँधेरे अकेले कमरे में वो ही शख्स ।
मुझको खुदा कसम सुबकता हुआ मिला ।

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
💐प्रेम कौतुक-373💐
💐प्रेम कौतुक-373💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*चुनाव में महिला सीट का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*चुनाव में महिला सीट का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मधुमास
मधुमास
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
तुझे भूलना इतना आसां नही है
तुझे भूलना इतना आसां नही है
Bhupendra Rawat
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*Author प्रणय प्रभात*
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
Shekhar Chandra Mitra
News
News
बुलंद न्यूज़ news
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
Shweta Soni
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
? ,,,,,,,,?
? ,,,,,,,,?
शेखर सिंह
"सफ़र"
Dr. Kishan tandon kranti
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
हृदय मे भरा अंधेरा घनघोर है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें"
DrLakshman Jha Parimal
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
6) जाने क्यों
6) जाने क्यों
पूनम झा 'प्रथमा'
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
कहानी- 'भूरा'
कहानी- 'भूरा'
Pratibhasharma
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
विरोध-रस की काव्य-कृति ‘वक्त के तेवर’ +रमेशराज
कवि रमेशराज
2435.पूर्णिका
2435.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...