Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

ऋतु गर्मी की आ गई,

🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞

ऋतु गर्मी की आ गई, लेकर खुशी हज़ार।
हम सब बच्चों के लिए, मस्ती की बौछार।

गर्मी की छुट्टी पड़ी, हम सब करते मौज।
धमाचौकड़ी कर रही, हम बच्चों की फौज।
लूडो, कैरम, खेलते, दोस्त मिले जब चार।
ऋतु गर्मी की आ गई, लेकर खुशी हज़ार।

गर्मी में खाते सभी, जामुन, लीची, आम।
शरबत,कुल्फी,सोफ्टी, भरे हुए बादाम।
पढने से छुट्टी मिली, होता हल्का भार।
ऋतु गर्मी की आ गई, लेकर खुशी हज़ार।

पापा जी लेकर चलो, हमको नैनीताल।
दिल्ली में गर्मी बहुत, करती है बेहाल।
मिलती शीतलता वहाँ, ठंडक भरी फुहार।
ऋतु गर्मी की आ गई, लेकर खुशी हज़ार।

ऋतु गर्मी की आ गई, लेकर खुशी हज़ार।
हम सब बच्चों के लिए मस्ती की बौछार।

🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞

-वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
माना जिंदगी चलने का नाम है
माना जिंदगी चलने का नाम है
Dheerja Sharma
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
जीवन में
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
मैं जिंदगी हूं।
मैं जिंदगी हूं।
Taj Mohammad
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
#लघुकथा / आख़िरकार...
#लघुकथा / आख़िरकार...
*Author प्रणय प्रभात*
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
मां ने जब से लिख दिया, जीवन पथ का गीत।
Suryakant Dwivedi
नारी जीवन की धारा
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
'अशांत' शेखर
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
💐प्रेम कौतुक-559💐
💐प्रेम कौतुक-559💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्पण दिखाना नहीं है
दर्पण दिखाना नहीं है
surenderpal vaidya
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
हमारा साथ और यह प्यार
हमारा साथ और यह प्यार
gurudeenverma198
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
*मृत्यु : चौदह दोहे*
*मृत्यु : चौदह दोहे*
Ravi Prakash
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...