Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ऊपर से चाहें तुम हँसते रहते हो

ऊपर से चाहें तुम हँसते रहते हो
दर्द पता है अंदर अंदर गहते हो

राह दिखाती माँ की बातें जीवन भर
अगर सभी वो अपने मन में तहते हो

विरह अगर अपनों का सहना पड़ता है
दिल पर पत्थर रख तुम ये सब सहते हो

भाव बता देते हैं सब कुछ चहरे के
मुँह से चाहें बात नहीं कुछ कहते हो

चाहें मिले ख़ुशी तुमको या कोई गम
आँखों से बस चुपके चुपके बहते हो

हार अर्चना मान मुश्किलों से क्यों तुम
खड़ी इमारत उम्मीदों की ढहते हो
डॉ अर्चना गुप्ता

12 Comments · 418 Views
You may also like:
अतीत का अफसोस क्या करना।
पीयूष धामी
षडयंत्रों की कमी नहीं है
सूर्यकांत द्विवेदी
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#मेरी दोस्त खास है
Seema 'Tu hai na'
विसर्जन
Saraswati Bajpai
हौसला देना
Dr. Sunita Singh
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
प्राकृतिक उपचार
Vikas Sharma'Shivaaya'
हम-सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
अजब मुहब्बत
shabina. Naaz
अनुरोध
Rashmi Sanjay
पौष की सर्दी/
जगदीश शर्मा सहज
■ संवेदनशीलता
*Author प्रणय प्रभात*
भारत का संविधान
rkchaudhary2012
*हम बीते युग के सिक्के (गीत)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी अपने सफर की मंजिल चाहती है।
Taj Mohammad
रुक्सत रुक्सत बदल गयी तू
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
विसर्जन गीत
Shiva Awasthi
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोशिश ज़रूरी है
Shekhar Chandra Mitra
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
I am a book
Buddha Prakash
आदर्श पिता
Sahil
निकलते हो अब तो तुम
gurudeenverma198
बात तेरी करने को
Dr fauzia Naseem shad
* सखी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...