Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 2 min read

देश के वासी हैं

उस देश के वासी हैं
❤️🍀🙏🙏❤️☘️
उस देश के वासी हैं जहां
मानवता फलती फूलती है
भाई चारे का संदेश देती है
सत्य अहिंसा मंत्र गूंजता वहां
सत्यमेव जयते सबल नारा है
ममता सहिष्णुता सद्भाव भरा
जन पगड़ी केसरिया खिलता है
उषा निराली निशा की लाली
शांत मधुर मधुकलश सरस
परोसे प्यार भोजन की थाली
खाना क्या खाना जहां पे
स्नेह भाव से पेट भर जाता है
वाणी में स्वाद व्यवहार मीठी
खट्टी तीखी यादों में जन वक्त
गुजार गले लग ईदमुबारक
कहता है ऊँच नीच जाति पाति
भेद नहीं मिल जुल मेहनत मजदूरी
से खाते पीते दूजे को खिलाता है
विविधता में एकता दर्शाता है
होली दिवाली क्रिसमस पूजा
उत्सव एक साथ मनाता हैं
प्रेम दर्शानेवाला सत्य अहिंसा
अपनाने वाला मर्यादित जीवन
राम राग सुनाता है। जहाँ
स्वभिमान तिरंगा उड़ रहा
वह न्यारा भारत देश हमारा है
ऊँच नीच का भेद मतभेद नहीं
काले गोरे वर्णो से सरोकार नहीं
सबको एक दूसरे से नाता है
स्नेह मोहब्बत कण कण भरी
स्वच्छता मन मंदिर बसी जहां
सनातनी परंपरा संगम पावन
माटी पानी हवा घन नभ जल
संचयन वितरण बेहतरिन कला
नद्य सागर की पूजा होती जहाँ
हम उस देश के वासी हैं जिस
देश पग बांध घुंघरूमीरानाचीथी
जहां पग पग नारी की पूजाहोती
घर एक मंदिर स्वर्ग सलोना है
धन्य वह देश जहां जनक जानकी
सियाराम राधा रुकमनी कृष्ण दाऊ
नन्द यशोदा की जन्म भूमी है
शकुंतला दुश्यन्त लाल भरत नाम
भारत गवाह उपनिषद्वे द पुराण
गीता ज्ञान का सागर है स्वर्ग नरक
सीढ़ी चम्बा भरमोर हिमाचल पाण्डव
स्वर्ग पथ उत्तराखंड कैलाश मानसरोवर
हिमालय अभेद्य देश प्रहरी जहां
हम उस देश के वासी हैं जिस
देश में गंगा यमुना सरस्वती संगम
डुबकी से मोक्ष मिल जाता है
अद्‌भुत अद्वितीय दिव्यभव्य नव्य
सरयू श्रीरामचंद्रजी का घर मंदिर
सहज सुलभ मर्यादा पुरुषोत्तम पद
खलाऊं रख सिंहासन रामराज चला है
अयोध्या मथुरा वृंदावन कावा काशी
जहां रूह भरी भरपूर हवाएं जीवन
रुत सिखाता है जय भारत जय भारती
सत्य स्वर पवन चारों दिशा फैलाता है
दूजे दुःख समझ निज आपदा विपदा
आगे आने वाला देश भारत जग जन
का भी प्यारा है ।
🍀☘️🙏🙏🍀☘️🍀
तारकेशवर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
2543.पूर्णिका
2543.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
Hard To Love
Hard To Love
Vedha Singh
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
#आध्यात्मिक_कविता
#आध्यात्मिक_कविता
*प्रणय प्रभात*
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
*प्रेम का सिखला रहा, मधु पाठ आज वसंत है(गीत)*
Ravi Prakash
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
मृत्यु संबंध की
मृत्यु संबंध की
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
* सामने आ गये *
* सामने आ गये *
surenderpal vaidya
Loading...