Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

उसकी मर्जी

रहे सन्तुलन सुख और दुख में
न बनें कभी निराश।
एक भरोसा एक बल
एक आश विश्वास।

मैं कूकुर दरबार का
पट्टा गले पड़ा।
मेरा ठाकुर मेरा मालिक,
निश दिन साथ खड़ा।

जो भी होता मेरे जीवन में,
होती उसकी मर्जी,
कभी न करूँ शिकायत उससे,
न भेजूं कोई अर्जी।

जाने कितने राजे होंगे,
आएंगे चले जाएँगे।
गर ठाकुर से विमुख रहे तो,
अंत समय पछतायेंगे।

अगर है सुख लेना अंदर का,
बाहर से रुख मोड़ों।
ध्यान करो सतगुर का मन से,
नाम से नाता जोड़ो।

चौबीस घण्टे नौबत बाजे
ठाकुर लागे प्यारा।
वाह्य भक्ति पीछे रह जाये,
अंदर हो उजियारा।

मानव देह दार हो जाए,
मकसद हल हो तेरा।
जीवन मरण का झंझट छूटे,
हरि घर होए बसेरा।

Language: Hindi
54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
*ट्रक का ज्ञान*
*ट्रक का ज्ञान*
Dr. Priya Gupta
2715.*पूर्णिका*
2715.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
गुमनाम 'बाबा'
शिव तेरा नाम
शिव तेरा नाम
Swami Ganganiya
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
वो हमें भी तो
वो हमें भी तो
Dr fauzia Naseem shad
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपना-अपना
अपना-अपना "टेलिस्कोप" निकाल कर बैठ जाएं। वर्ष 2047 के गृह-नक
*प्रणय प्रभात*
"क्या निकलेगा हासिल"
Dr. Kishan tandon kranti
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दुनियां में सब नौकर हैं,
दुनियां में सब नौकर हैं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
नहीं देखी सूरज की गर्मी
नहीं देखी सूरज की गर्मी
Sonam Puneet Dubey
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"" *नारी* ""
सुनीलानंद महंत
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
धूल में नहाये लोग
धूल में नहाये लोग
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
अंतर
अंतर
Dr. Mahesh Kumawat
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
Shashi Dhar Kumar
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*अध्याय 4*
*अध्याय 4*
Ravi Prakash
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये
Monika Verma
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूर्वार्थ
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
परत
परत
शेखर सिंह
Loading...