Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2016 · 1 min read

उरी तो टीसेगी

मुदद्तों कहीं गहरी ये उरी तो टीसेगी|
पीठ पर चली है जो वो छुरी तो टीसेगी |

कूटनीति की बातें और कुछ सियासत भी,
मालकां तेरी ऐसी चातुरी तो टीसेगी |

कीमतें लगाते हैं जान की गँवाई जो ,
चार कागजों की ये पांखुरी तो टीसेगी|

चीथड़े हुये वां वो जिस्म औ यहाँ कुनबा ,
वो तड़प यहाँ होकर झुरझुरी तो टीसेगी |

सरहदें बहुत चीखीं रात भर कराहीं हैं,
चैन से बजी सबकी बांसुरी तो टीसेगी |

सुदेश कुमार मेहर

229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
*,मकर संक्रांति*
*,मकर संक्रांति*
Shashi kala vyas
#मिसाल-
#मिसाल-
*Author प्रणय प्रभात*
Consistency does not guarantee you you will be successful
Consistency does not guarantee you you will be successful
पूर्वार्थ
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पुराने सिक्के
पुराने सिक्के
Satish Srijan
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
आंगन महक उठा
आंगन महक उठा
Harminder Kaur
माफ कर देना मुझको
माफ कर देना मुझको
gurudeenverma198
यति यतनलाल
यति यतनलाल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
चाहत
चाहत
Dr Archana Gupta
2565.पूर्णिका
2565.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
*पुरानी वाली अलमारी (लघुकथा)*
*पुरानी वाली अलमारी (लघुकथा)*
Ravi Prakash
मन में उतर कर मन से उतर गए
मन में उतर कर मन से उतर गए
ruby kumari
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बिछड़ जाता है
बिछड़ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
नाचे सितारे
नाचे सितारे
Surinder blackpen
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
खेल रहे अब लोग सब, सिर्फ स्वार्थ का खेल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...