Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

उपेक्षित फूल

कवि राज कुछ करो कविता ,
निकालो मन मद सरिता ।
शायद प्रकृति गई कुछ भूल,
कितने कांटे सिर्फ एक फूल।।

फूल उपेक्षित है यह फूला,
झूम रहा अकस्मात ही झूला।
विगत जीवन याद इसे है,
हुआ प्रभंजन याद इसे है ।।

पिता हुआ करता लता का राजा ,
विगत दुख हुआ फिर ताजा।
मां फूल संग अब भी मुरझाई ,
समस्त पथिक देखे मन माही ।।

किया प्रश्न मूर्ख क्यों अकेला,
मौसम के संग यह नहीं खेला।
हम भी तो खेले थे झूला ,
फूल अकेला बिछड़ा मेला ।।

हृदय मौन विलाप सुमन का ,
अकेला ही शंकित चमन का।
पथिक देख सोचे मन माही,
समस्त दिशाएं मची गाह त्राहि॥

हुई मनन ग्लानि पूछा जिस से ,
याद हुए फिर पिछले किस्से ।
कांटे ही आए अब हिस्से ,
पास गांठ नहीं रे पैसे ।।

तोड़ माली ले गया फूल को,
छोड़ गया सिर्फ वहां सूल को ।
सूल सूल ही बाकी रह गई ,
हाथ बिन जैसे राखी रह गई।।

फूल की तरफ देखा किसी ने ,
हतोत्साहित मन उत्साहित इसी में।
शायद सोचा आई फिजा ,
क्योंकि बीत चुकी है खिजा।।

सुन आहट तितली की फूल,
चन्द असे गया दुःख भूल।
शायद सोचा होगा आएंगी फिजा,
क्योंकि अब बीत चुकी है खिजा।।

सतपाल चौहान
लाखन माजरा रोहतक।

Language: Hindi
1 Like · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
गाए जा, अरी बुलबुल
गाए जा, अरी बुलबुल
Shekhar Chandra Mitra
You know ,
You know ,
Sakshi Tripathi
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
जो धधक रहे हैं ,दिन - रात मेहनत की आग में
Keshav kishor Kumar
"कइसन जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
*अहिल्या (कुंडलिया)*
*अहिल्या (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
करके ये वादे मुकर जायेंगे
करके ये वादे मुकर जायेंगे
Gouri tiwari
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये दुनिया बाजार है
ये दुनिया बाजार है
नेताम आर सी
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
बटन ऐसा दबाना कि आने वाली पीढ़ी 5 किलो की लाइन में लगने के ब
शेखर सिंह
■ लिख कर रख लो। 👍
■ लिख कर रख लो। 👍
*Author प्रणय प्रभात*
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
आंखो के पलको पर जब राज तुम्हारा होता है
Kunal Prashant
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
Sanjay ' शून्य'
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
विमला महरिया मौज
गठबंधन INDIA
गठबंधन INDIA
Bodhisatva kastooriya
"चंचल काव्या"
Dr Meenu Poonia
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
3276.*पूर्णिका*
3276.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
रामदीन की शादी
रामदीन की शादी
Satish Srijan
Loading...