Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 2 min read

“उन्हें भी हक़ है जीने का”

‘उन्हें भी हक़ है जीने का’ : जी हाँ, मैं बात कर रहा हूँ पेड़ों की, जो वर्षा कराने, तापमान को नियंत्रित रखने, मिट्टी के कटाव को रोकने तथा जैव विविधता का पोषण करने में अत्यन्त सहायक है। ये पेड़ ही है जो हमें प्राण-वायु ‘ऑक्सीजन’ देते हैं। इसके अलावा 1 वयस्क पेड़ एक वर्ष में वातावरण से लगभग 48 पौंड से अधिक कार्बन डाई-ऑक्साइड (CO2) अवशोषित कर लेता है। इससे वातावरण शुद्ध होता है।

कुछ वर्ष पूर्व सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त एक समिति ने 1 पेड़ की औसत कीमत ₹ 74,500 बताई थी। इसमें ऑक्सीजन उत्पन्न करने की लागत और समस्त पारिस्थितिक लाभों को जोड़ा गया था। पेड़-पौधों का संरक्षण पृथ्वी की खुशहाली के लिए भी जरूरी है, जो मानव सहित सभी प्राणधारियों के अस्तित्व से जुड़ा हुआ है।

बुजुर्गों की तरह पेड़ों को पेंशन दिया जा सकता है। इससे उनकी जीवन प्रत्याशा बढ़ेगी तथा ऑक्सीजन एवं अन्य उपादान देने की क्षमता का विस्तार होगा।

ज्ञात हुआ है कि हरियाणा सरकार 75 वर्ष से अधिक आयु के पेड़ों को पेंशन देने जा रही है। यह विश्व में अपनी तरह की प्रथम योजना होगी। इसमें 40 प्रजातियों के पेड़ों को शामिल किया जा रहा है, जिसमें मुख्य रूप से पीपल, बरगद, नीम, आम, गूलर और कदम्ब जैसे वृक्ष शामिल हैं। प्रत्येक पेड़ के मान से दी जाने वाली निश्चित राशि पेड़ों के संरक्षण करने वाले लोगों के खाते में जमा की जाएगी।

मुझे ऐसा लगता है कि पेड़ से अच्छा कुछ भी नहीं। हम यही कहेंगे कि :
और कोई चाह न हमको
बस रब दे ये सौगात रे,
अगले जनम मोहे मिले
बस तरुवर की जात रे।
फूल महकाए जग को सारे
फल भगाए भूख रे,
छाया मिले उन सबको मेरी
जिसे जलाए धूप रे,
बादलों को खींच-खींच कर
लाऊँ मैं बरसात रे,
अगले जनम मोहे मिले
बस तरुवर की जात रे।
(मेरी काव्य-कृति : ‘माटी का दीया’ से,,,)

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
प्रशासनिक अधिकारी
हरफनमौला साहित्य लेखक।

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 1 Comment · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
कविता(प्रेम,जीवन, मृत्यु)
Shiva Awasthi
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
gurudeenverma198
भगवा रंग छाएगा
भगवा रंग छाएगा
Anamika Tiwari 'annpurna '
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
आर.एस. 'प्रीतम'
3337.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3337.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
#छोटी_सी_नज़्म
#छोटी_सी_नज़्म
*प्रणय प्रभात*
कविता -दो जून
कविता -दो जून
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है
Karuna Goswami
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कवि दीपक बवेजा
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
काश वो होते मेरे अंगना में
काश वो होते मेरे अंगना में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
जीवन की धूप-छांव हैं जिन्दगी
जीवन की धूप-छांव हैं जिन्दगी
Pratibha Pandey
कविता: घर घर तिरंगा हो।
कविता: घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
Shreedhar
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
बीत गया सो बीत गया...
बीत गया सो बीत गया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
Sanjay ' शून्य'
सम्बन्ध
सम्बन्ध
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...