Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-238💐

उनका ‘बे-एतिबार’ कहना बढ़े काम का है,
ख़ुद सुधरिए सोहबत का असर नाम का है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
57 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
भाव
भाव
Sanjay
मेरा दामन भी तार-तार रहा
मेरा दामन भी तार-तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तब हर दिन है होली
तब हर दिन है होली
Satish Srijan
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Sakshi Tripathi
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
Rj Anand Prajapati
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गंवई गांव के गोठ
गंवई गांव के गोठ
Vijay kannauje
सफलता की जननी त्याग
सफलता की जननी त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
💐प्रेम कौतुक-295💐
💐प्रेम कौतुक-295💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जैसे
जैसे
Rashmi Mishra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
தனிமை
தனிமை
Shyam Sundar Subramanian
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
कमज़ोर सा एक लम्हा
कमज़ोर सा एक लम्हा
Surinder blackpen
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
अच्छाई ऐसी क्या है तुझमें
gurudeenverma198
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
जो जी में आए कहें, बोलें बोल कुबोल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तू और तुझसे प्रेरित मुसाफ़िर
तू और तुझसे प्रेरित मुसाफ़िर
Skanda Joshi
निरापद  (कुंडलिया)*
निरापद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
सामाजिक न्याय के प्रश्न पर
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का मुक्तक...
■ आज का मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
बेरहम जिन्दगी के कई रंग है ।
बेरहम जिन्दगी के कई रंग है ।
Ashwini sharma
Loading...