Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA

समय की मांग के अनुसार प्रेम करने-त्यागनेे, घृणा बिसारने-उपजाने एवं अन्यमनस्कता बरतने-छोड़ने से परिभाषित होता है हमारा जीवन।

जीवन में स्वार्थ का उतरोत्तर ह्रास एवं परमार्थ का विकास हमारे व्यक्तित्व को उदात्त बनाता है एवं मनुष्य जीवन को विशिष्ट बनाता है।

Language: Hindi
154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
A beautiful space
A beautiful space
Shweta Soni
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
आजकल / (नवगीत)
आजकल / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Neeraj Agarwal
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुढ़ापा हूँ मैं
बुढ़ापा हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
अब तो इस राह से,वो शख़्स गुज़रता भी नहीं
अब तो इस राह से,वो शख़्स गुज़रता भी नहीं
शेखर सिंह
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
भक्तिभाव
भक्तिभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*प्रणय प्रभात*
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
बहे संवेदन रुप बयार🙏
बहे संवेदन रुप बयार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
Subhash Singhai
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
Ravi Prakash
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🌸मन की भाषा 🌸
🌸मन की भाषा 🌸
Mahima shukla
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"वो हसीन खूबसूरत आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
आदि गुरु शंकराचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...