Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 2 min read

*उदघोष*

उदघोष

डॉ अरुण कुमार शास्त्री, एक अबोध बालक ?अरुण अतृप्त

आईना हूँ ठोकर से टूट जाऊंगा ।।
बिखरा जो एक बार जुड़ न पाऊँगा।।
मुझसे मेरे बजूद के मानी न पूँछना ।।
हरएक घटना तो मैं आपको सुना न पाऊँगा ।।

देखो सखी अब के सावन में झूलेंगे झूला ।।
मैं पेड़ पर चढूंगा तुम नीचे से रस्सी पकड़ा देना ।।
देकर बलेटा रस्सी को फिर मैं गांठ पक्की लगाऊँगा।।
तुझको लगे ना चोट कोई ये सुनिश्चित कराऊँगा ।।

हालिया हालात से कुंठित मानसिकता हो गई।।
स्वार्थ सिद्धि के चलते मानवता भृष्ट हो गई ।।
अभ्यास नही था मुझको किंचित भी इस बात का।।
ऊहा पोह में पड़ा पड़ा मैं तो पूरा नकारा हो गया ।।

काम का रहा न किसी काज का रहा ।।
दुश्मन रहा अनाज का बेकार ही रहा ।।
जीवन जिया आलस्य में बोझ बन रहा
माता पिता के लिए मैं व्यर्थ ही रहा ।।

आया न काम देश के ना ही समाज के ।
पढ़ लिख के भी तंत्र मिरा ढोल का खोल ही रहा ।।
आईना हूँ ठोकर से टूट जाऊंगा ।।
बिखरा जो एक बार जुड़ न पाऊँगा।।

मुझसे मेरे बजूद के मानी न पूँछना ।।
हरएक घटना तो मैं आपको सुना न पाऊँगा ।।
चलता रहा, ये जिस्म मेरा और दुखता भी रहा ।
सैंकड़ों शिकायतों के साथ घिसटता फिर भी रहा।

इसने उसने बताई किसी किसी ने तो कई बार समझाई।
जिन्दगी ऐसी है जिन्दगी वैसी है, कुछ समझा कुछ नहीं।
जो ठीक लगा माना कुछ दिन फिर अपने ढर्रे पर लौट आया।
मैं अबोध बालक था निपट रंग किसी का मगर न चढ़ पाया।

आईना हूँ ठोकर से टूट जाऊंगा ।।
बिखरा जो एक बार जुड़ न पाऊँगा।।
मुझसे मेरे बजूद के मानी न पूँछना ।।
हरएक घटना तो मैं आपको सुना न पाऊँगा ।।

Language: Hindi
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
'अशांत' शेखर
.........,
.........,
शेखर सिंह
#शर्माजी के शब्द
#शर्माजी के शब्द
pravin sharma
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तन्हाई
तन्हाई
नवीन जोशी 'नवल'
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
रमेशराज की पद जैसी शैली में तेवरियाँ
कवि रमेशराज
"होरी"
Dr. Kishan tandon kranti
जब जब तुम्हे भुलाया
जब जब तुम्हे भुलाया
Bodhisatva kastooriya
आओ चलें नर्मदा तीरे
आओ चलें नर्मदा तीरे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
3221.*पूर्णिका*
3221.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगों की सुखद फुहार
रंगों की सुखद फुहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं बेटी हूँ
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
हमारा साथ और यह प्यार
हमारा साथ और यह प्यार
gurudeenverma198
■ #यादों_का_आईना
■ #यादों_का_आईना
*Author प्रणय प्रभात*
* पानी केरा बुदबुदा *
* पानी केरा बुदबुदा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
सेल्फी या सेल्फिश
सेल्फी या सेल्फिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
मंज़िल को पाने के लिए साथ
मंज़िल को पाने के लिए साथ
DrLakshman Jha Parimal
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
कहानी ( एक प्यार ऐसा भी )
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...