Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

उत्तम देह

हे नाथ आपकी परम कृपा से,उत्तम देह मैंने पाई है।
पता नहीं है जन्म पुरातन, आत्मा किस देह से आई है।।
लख चौरासी जीव चराचर, सभी धरा पर आते हैं।
जीवन चक्र जन्म मृत्यु, आदि अंत न पाते हैं।।
बड़े भाग्य से मनुज देह में, हे नाथ तुम्हें ध्याते हैं।
ज्ञान विवेक और भक्ति से, विरले नर नारी पाते हैं।।
हर जीव जंतु में बुद्धि है, केवल जीने और खाने की।
भूख प्यस निंद्रा मैथुन, शक्ति परिवार बढ़ाने की।।
चौरासी लाख में श्रेष्ठ योनि,नर तन में बुद्धि विवेक है।
आत्मकल्याण और सत्कर्मों को,मनुज जन्म अतिश्रेष्ठ है।।
हे नाथ तुम्हारा नर तन में, अंतिम क्षण तक ध्यान रहे।
भटक न जाऊं भव सागर में, जीवन में ये ज्ञान रहे।।
काया माया का इस जग में, बड़ा तीब़ आकर्षण है।
कदम कदम पर लोभ मोह,ये मन भी तो चंचल है।।
हे नाथ कृपा कर भवसागर से, मुझको पार लगाना।
फंस न जाऊं दल-दल में,पल पल मुझे बचाना।।

Language: Hindi
111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
*मां*
*मां*
Dr. Priya Gupta
बीज अंकुरित अवश्य होगा
बीज अंकुरित अवश्य होगा
VINOD CHAUHAN
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*रावण (कुंडलिया)*
*रावण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
यथार्थवादी कविता के रस-तत्त्व +रमेशराज
कवि रमेशराज
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किस्मत की चाभी
किस्मत की चाभी
Awadhesh Singh
ज़िंदगी की ज़रूरत के
ज़िंदगी की ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐प्रेम कौतुक-563💐
💐प्रेम कौतुक-563💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
विकास का ढिंढोरा पीटने वाले ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"जिराफ"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
2303.पूर्णिका
2303.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इस तरफ न अभी देख मुझे
इस तरफ न अभी देख मुझे
Indu Singh
#व्यंग्य-
#व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुम लफ्ज़
गुम लफ्ज़
Akib Javed
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
जाने किस कातिल की नज़र में हूँ
Ravi Ghayal
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
Dr. Man Mohan Krishna
कभी कभी सच्चाई भी भ्रम सी लगती हैं
कभी कभी सच्चाई भी भ्रम सी लगती हैं
ruby kumari
बुंदेली दोहा - सुड़ी
बुंदेली दोहा - सुड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
जीवन उद्देश्य
जीवन उद्देश्य
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* धरा पर खिलखिलाती *
* धरा पर खिलखिलाती *
surenderpal vaidya
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
Loading...