Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

उठ जाग मेरे मानस

उठ जाग मेरे मानस

उठ जाग मेरे मानस, बेहोश सो रहा है
अनमोल है ये नर तन, क्यों व्यर्थ खो रहा है ।उठ……
मानस जनम सुधारो, सत्कर्म मन में धारो
अब तो जरा विचारों, यह रोज खो रहा है ।उठ……..
भगवान ने धरा तन, संसार को सिखाने
कभी राम के बहाने, कभी कृष्ण के बहाने
जीवन में ये उतारो, ये व्यर्थ हो रहा है ।उठ……
मौत है बहाना, एक दिन सभी को जाना
आंखों से तुम निहारो,मन में जरा विचारों
पल पल ये जिंदगी का,सोने में खो रहा है ।उठ…..

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
"एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है
शेखर सिंह
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2784. *पूर्णिका*
2784. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
8. *माँ*
8. *माँ*
Dr Shweta sood
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
उसके कहने पे दावा लिया करता था
उसके कहने पे दावा लिया करता था
Keshav kishor Kumar
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
कोई फैसला खुद के लिए, खुद से तो करना होगा,
Anand Kumar
सूरज आया संदेशा लाया
सूरज आया संदेशा लाया
AMRESH KUMAR VERMA
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
दिल
दिल
Neeraj Agarwal
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
छल
छल
गौरव बाबा
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
Sanjay ' शून्य'
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
Raju Gajbhiye
Loading...