Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2023 · 1 min read

उठो पथिक थक कर हार ना मानो

उम्मीद की किरण बन आया
अँधेरा चीर कर सूरज आया
पंक्षी फिर चहकने लगे गगन में
फिर झरनों ने गीत मधुर गाया
ऋतुओं ने खिलाये फूल
भंवरों ने गुंजन किया
नदिया अपने उद्गम से निकल गई
फिर सागर से जा मिलने को
तुम उठो पथिक
थक कर हार ना मानो
सृजन करो उत्साह मन में
नवजीवन दीपों का
शिखर दे रहा आवाज तुमको
जय हो विजय हो
कर के ये घोषणा
पथ की बाधाओं को दूर करो
करो कुठाराघात मन की जड़ता पर
असंख्य संभावना है तुझ में
जिसे तू साकार कर
जान खुद को पहचान खुद को
तू ही पथ तू ही पथिक तू ही शिखर है
चल की लक्ष्य का आह्वान है
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)

4 Likes · 155 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मेरी किस्मत को वो अच्छा मानता है
मेरी किस्मत को वो अच्छा मानता है
कवि दीपक बवेजा
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
DrLakshman Jha Parimal
* बातें मन की *
* बातें मन की *
surenderpal vaidya
2383.पूर्णिका
2383.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तपोवन है जीवन
तपोवन है जीवन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मां जैसा ज्ञान देते
मां जैसा ज्ञान देते
Harminder Kaur
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ चहेतावादी चयनकर्ता।
■ चहेतावादी चयनकर्ता।
*Author प्रणय प्रभात*
"कवि तो वही"
Dr. Kishan tandon kranti
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
विमला महरिया मौज
💐प्रेम कौतुक-415💐
💐प्रेम कौतुक-415💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
हुआ अच्छा कि मजनूँ
हुआ अच्छा कि मजनूँ
Satish Srijan
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
Ravi Prakash
హాస్య కవిత
హాస్య కవిత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
Rj Anand Prajapati
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
Kr. Praval Pratap Singh Rana
Loading...