Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2024 · 1 min read

ईष्र्या

ईर्ष्या
आज भी
ईर्ष्या तू ना गई मेरे मन से
आज भी पास होकर तुम इतराती हो या
फिर दूर रहकर यूं मुझसे विद्वेष रखतीं हो…
अक्सर कई बार पढ़ा है मैंने तुम्हे ! जो देखा है
बस आज भी तुम बदले नहीं जो वो ईर्ष्या रखते हो
सद का भावार्थ लिए बिना ही आज मुझसे टकराते हो
हो कोई स्वार्थ अपनी चुप्पी में तो आज आंखें मुंद्रा कतराते हो…..
अक्सर ईर्ष्या तुने मुझे !हरबार , तनक कर देखा
मेरे जज्बात को जाने बिना अक्सर वो मुंह फेरते देखा
यकिनन मेरे कदमों की थाप तेरे हित में थी सदा गर तू समझा नही
जो आज मेरे विश्वास को परखे बिना ही हस्ती! वो ही ईर्ष्या करते देखा….
गर वो तनिक भी ईर्ष्या से परे मुझे! एकबार देखता तो अच्छा होता.
मगर वो मगरूर ईर्ष्या से भरा मुझे आंखों से आज भी सदा यूं कोसते देखा
अब क्या कहूँ मेरी ईर्ष्या से हस्ती जो खुद से मुझे जलाता रहा
अपनी पैनी निगाहों से अक्सर पास होकर भी आज वो मुझे कोसता रहा
जो देखता हूँ आज भी मेरी राहों में वो चुपके से गड्ढे खोदता रहा
मैं इर्ष्या से परे उसे देखता अपना आज मगर वो आज भी मुझे बस!इर्ष्या से मारता रहा….
अब तुम बताओ मेरी ईर्ष्या से मैं कैसे दूर रहूं
जिसके न होने से आज भी मैं अछुता रहूं
यकिनन ईर्ष्या से मैं जलता रहा डरता रहा
मगर मैं कैसे कहूँ! की अब मैं कैसे दूर रहूं….

स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जीवन अनंत की यात्रा है और अनंत में विलीन होना ही हमारी मंजिल
जीवन अनंत की यात्रा है और अनंत में विलीन होना ही हमारी मंजिल
Priyank Upadhyay
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
शेखर सिंह
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
*डूबतों को मिलता किनारा नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सगीर की ग़ज़ल
सगीर की ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
gurudeenverma198
स्पर्श
स्पर्श
Ajay Mishra
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
Shreedhar
तुझे स्पर्श न कर पाई
तुझे स्पर्श न कर पाई
Dr fauzia Naseem shad
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
Taj Mohammad
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/30.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
#अच्छे_दिनों_के_लिए
#अच्छे_दिनों_के_लिए
*प्रणय प्रभात*
कभी लगे  इस ओर है,
कभी लगे इस ओर है,
sushil sarna
"रियायत के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
जवाब दो हम सवाल देंगे।
जवाब दो हम सवाल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
Loading...