Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

ईश्वर नाम रख लेने से, तुम ईश्वर ना हो जाओगे,

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

नाम-नाम में तप है,
नाम-नाम में जप,
नाम-नाम ही कलंक है,
नाम-नाम ही बेशर्म,
नाम में लिखा हो स्वामी तो,
वह स्वामी नहीं हो जाएगा,
बिन प्रसाद के भक्त भी,
भक्ति में तर जाएगा,
ईश्वर नाम रख लेने से,
तुम ईश्वर ना हो जाओगे,
पाप-कर्म के अपने पुण्य को,
अलग-अलग भर जाओगे,
सत्ता की भूख में तुम,
इतना चूर न हो जाओ,
जनता से धकियाए गए हो,
ईश से धकियाऐ गए तो,
फिर किस दुनिया में जाओगे।

68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
नज़र आसार-ए-बारिश आ रहे हैं
नज़र आसार-ए-बारिश आ रहे हैं
Anis Shah
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मुक्तक*
*मुक्तक*
LOVE KUMAR 'PRANAY'
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
"कारण"
Dr. Kishan tandon kranti
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
*Author प्रणय प्रभात*
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
The steps of our life is like a cup of tea ,
The steps of our life is like a cup of tea ,
Sakshi Tripathi
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
सांस
सांस
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
युग परिवर्तन
युग परिवर्तन
आनन्द मिश्र
🌲प्रकृति
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
असोक विजयदसमी
असोक विजयदसमी
Mahender Singh
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
वृक्षों का रोपण करें, रहे धरा संपन्न।
डॉ.सीमा अग्रवाल
- फुर्सत -
- फुर्सत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मां
मां
Irshad Aatif
विदाई
विदाई
Aman Sinha
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
बाल कविता: जंगल का बाज़ार
Rajesh Kumar Arjun
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
मन में सदैव अपने
मन में सदैव अपने
Dr fauzia Naseem shad
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
दिल के कोने में
दिल के कोने में
Surinder blackpen
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
Paras Nath Jha
💐प्रेम कौतुक-490💐
💐प्रेम कौतुक-490💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...