Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Nov 2023 · 2 min read

ईश्वर के प्रतिरूप

लघुकथा

ईश्वर के प्रतिरूप

पति-पत्नी शाम को टेरेस पर बैठे बतिया रहे है।
पत्नी बोली, “अभी कोरोना से दुनियाभर में हाहाकार मचा हुआ है। मुझे लगता है यह कोरोना तो महज एक शुरुआत है। अब न जाने कब कौन-सा वायरस आकर यूँ तबाही मचा दे।”
पति बोला, “हाँ, यह भी मुमकिन है। वैसै पहले भी ऐसे कुछ वायरस अपना कहर ढा चुके हैं, पर हमारे साइंटिस्ट और डॉक्टर्स देर-सबेर इनका तोड़ निकाल ही लेते हैं।”
पत्नी बोली, “हाँ, सो तो है जी। मैं आज अखबार में एक खबर पढ़ रही थी, जिसके मुताबिक हजारों की संख्या में डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ भी संक्रमित हो रहे हैं। हमारे देश में ही सैकड़ों की संख्या में डॉक्टर्स की मौत हो चुकी है। मैं तो इस रिपोर्ट को पढ़कर ही बहुत डर गई हूँ।”
पति ने कहा, “क्यों भला ?”
पत्नी बोली, “आप पूछ तो ऐसे रहे हैं जैसे आपको कुछ पता ही नहीं। आप ही तो हमारे इकलौते बेटे को डॉक्टर बनाने पर तुले हुए हैं। बेटा भी उसके लिए जी जान से लगा हुआ है।”
पति ने शांत भाव से कहा, “सच कहूँ तो वर्तमान में डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ की सेवा भाव को देखकर मेरा विश्वास और भी प्रबल हो गया है कि ये सचमुच धरती पर ईश्वर के प्रतिरूप हैं। समुद्र मंथन में निकले विष को लोकहित में जिस प्रकार शिव जी ने पी लिया था, उसी प्रकार आज ये लोग कोरोना से लड़ रहे हैं। यही कारण है कि कोरोना से मरने वालों की संख्या, कोरोना से बचने वालों की संख्या से बहुत ही कम है। अब तो मेरी इच्छा और भी बलवती हो गई है हमारी इकलौती संतान डॉक्टर ही बने।”
उन्होंने पत्नी की ओर देखा। उसकी आँखों में संतुष्टि के भाव थे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

2 Likes · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ!
माँ!
विमला महरिया मौज
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
खुद को इतना .. सजाय हुआ है
Neeraj Mishra " नीर "
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
तरक्की से तकलीफ
तरक्की से तकलीफ
शेखर सिंह
सपना देखना अच्छी बात है।
सपना देखना अच्छी बात है।
Paras Nath Jha
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ इस ज़माने में...
■ इस ज़माने में...
*प्रणय प्रभात*
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
Perhaps the most important moment in life is to understand y
Perhaps the most important moment in life is to understand y
पूर्वार्थ
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नहीं बदलते
नहीं बदलते
Sanjay ' शून्य'
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
वो तो है ही यहूद
वो तो है ही यहूद
shabina. Naaz
"बिना पहचान के"
Dr. Kishan tandon kranti
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
हर पल ये जिंदगी भी कोई खास नहीं होती ।
Phool gufran
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
भारत का चाँद…
भारत का चाँद…
Anand Kumar
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
बृद्ध  हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
बृद्ध हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
Loading...