Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2021 · 1 min read

ईर्ष्या

जन-जन में ईर्ष्या बसती है
समय-समय पर डसती है।

रातों को नींद नहीं आती
मन में आग सी लगाती
हर पल बेचैन रहते हैं
बेमतलब पीड़ा सहते हैं

बिना पानी सब की कश्ती है
जन-जन में ईर्ष्या बसती है।

आदमी तो छला जाता है
कई बार जान चला जाता है
केवल पछतावे रह जाते है
आंखों से आंसू बह जाते है

पूरी जिंदगी कसकती है
जन-जन में ईर्ष्या बसती है।

दूसरों को जलाना छोड़ दो
जीवन को शीतल मोड़ दो
मन को मन से मिलाओ
ना जलो ना ही जलाओ

जीवन ना इतनी सस्ती है
जन-जन में ईर्ष्या बसती है।

नूर फातिमा खातून
जिला कुशीनगर

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 529 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
बिन बोले ही हो गई, मन  से  मन  की  बात ।
बिन बोले ही हो गई, मन से मन की बात ।
sushil sarna
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अमृत महोत्सव आजादी का
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दुःख  से
दुःख से
Shweta Soni
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
गुरु श्रेष्ठ
गुरु श्रेष्ठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
Jay shri ram
Jay shri ram
Saifganj_shorts_me
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
Manoj Mahato
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
■ शुभ देवोत्थान
■ शुभ देवोत्थान
*Author प्रणय प्रभात*
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जुदा नहीं होना
जुदा नहीं होना
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षा दान
शिक्षा दान
Paras Nath Jha
पीड़ाएं सही जाती हैं..
पीड़ाएं सही जाती हैं..
Priya Maithil
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
अरर मरर के झोपरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
ऐ मेरे हुस्न के सरकार जुदा मत होना
प्रीतम श्रावस्तवी
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
मेरे चेहरे पर मुफलिसी का इस्तेहार लगा है,
Lokesh Singh
Loading...