Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2020 · 2 min read

ईनाम

#ईनाम #
फोन की घंटी बजने पर जब सविता ने फोन रिसीव किया तो उधर से आवाज़ आई-
“हैलो सविता, मैं नेहा बोल रही हूँ।”
“अरे ! मेम साहब ,आप बोल रही हैं,बोलिए। अब तो लाॅक डाउन खुल गया है, काम पर आ जाऊँ?आपको बहुत परेशानी हो रही होगी?”
“मुझे भी तो बोलने दो।बोलिए, कहकर खुद ही बोलने लग गईं।”
“साॅरी मेमसाहब, आप बोलिए। ये ‘साॅरी’ शब्द सविता ने नेहा के वहाँ काम करते हुए ही सीखा था।
“मैंने तुम्हें काम पर बुलाने के लिए नहीं बल्कि ये बताने के लिए फोन किया है कि तुम्हारे खाते में मई महीने के पैसे भेज दिए हैं। तुम खाते से पैसे निकालकर अपनी घर-गृहस्थी का कुछ इंतजाम कर सकती हो।”
सविता सोचने लगी कि जो मेमसाहब, सामान्य दिनों में महीने की चार-पाँच तारीख तक पैसे देती थीं,वे लाॅकडाउन में एक तारीख को ही खाते में पैसे भेज देती हैं।
सविता ने कहा, “मेमसाहब,ऐसे कब तक चलेगा? फ्री में पैसे लेना अच्छा नहीं लगता।”
“नहीं, ये फ्री का पैसा नहीं है। तुमने पिछले दस सालों में जिस ईमानदारी से मेरे घर में काम किया है, यह उसका ईनाम है।तुम्हारे जैसी काम वाली बाई मुझे कहाँ मिलेगी, कहीं तुम मेरे घर में काम करना बंद न कर दो,इसलिए तुम्हें पैसे दे रही हूँ। और हाँ, अपना तथा अपने बच्चों का ध्यान रखना।बिना काम के बाहर मत जाना।”
मेरी खुद्दारी को किसी प्रकार से ठेस न लगे,इसलिए मेमसाहब ईनाम की बात कर रही हैं, सविता को यह समझने में देर न लगी।,
ठीक है मेमसाहब, “मैं अपना और बच्चों का पूरा ध्यान रखूँगी और उस दिन का इंतज़ार रहेगा जब आप मुझे काम पर वापस आने के लिए फोन करोगी न कि यह बताने के लिए कि खाते में पैसे भेज दिए हैं।”
डाॅ बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 550 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
फुर्सत नहीं है
फुर्सत नहीं है
Dr. Rajeev Jain
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सावन आया
सावन आया
Neeraj Agarwal
गिलहरी
गिलहरी
Kanchan Khanna
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
ruby kumari
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
2706.*पूर्णिका*
2706.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
सवाल~
सवाल~
दिनेश एल० "जैहिंद"
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
घर
घर
Dheerja Sharma
एक बेवफा का प्यार है आज भी दिल में मेरे
एक बेवफा का प्यार है आज भी दिल में मेरे
VINOD CHAUHAN
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
मासी की बेटियां
मासी की बेटियां
Adha Deshwal
*हिंदी दिवस मनावन का  मिला नेक ईनाम*
*हिंदी दिवस मनावन का मिला नेक ईनाम*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
संतोष बरमैया जय
पल भर फासला है
पल भर फासला है
Ansh
"मानो या ना मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
दुःख हरणी
दुःख हरणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
Loading...