Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ईद की दिली मुबारक बाद

दिली मुबारकबाद ईद की, रोजे और रमजान की
खुदा करे खुशियां मिल जाएं, तुमको सकल जहांन की
ये मालिक दोनों जहां के, कुबूल कर जायज दुआ
दुनिया में दहशत का मिटा दे, या नबी नामोनिशां
चांद से रोशन रहें, रोशनी दुनिया में फैलाएं
आप फूल से खिलें, जहां खुशबू से महकाएं
दिली मुरादें पूरी हों, खुशियां हर इंसान की
आओ मिलकर करें दुआ, दुनिया के इंसान की
दिली मुबारकबाद ईद की, रोजे और रमजान की

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 57 Views
You may also like:
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
आदर्श पिता
Sahil
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
पिता का दर्द
Nitu Sah
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️बगावत थी उसकी✍️
"अशांत" शेखर
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
जवानी
Dr.sima
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
वक्त और दिन
DESH RAJ
अल्फाज़ हैं शिफा से।
Taj Mohammad
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...