Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2022 · 1 min read

ईद की दिली मुबारक बाद

दिली मुबारकबाद ईद की, रोजे और रमजान की
खुदा करे खुशियां मिल जाएं, तुमको सकल जहांन की
ये मालिक दोनों जहां के, कुबूल कर जायज दुआ
दुनिया में दहशत का मिटा दे, या नबी नामोनिशां
चांद से रोशन रहें, रोशनी दुनिया में फैलाएं
आप फूल से खिलें, जहां खुशबू से महकाएं
दिली मुरादें पूरी हों, खुशियां हर इंसान की
आओ मिलकर करें दुआ, दुनिया के इंसान की
दिली मुबारकबाद ईद की, रोजे और रमजान की

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 429 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
నమో సూర్య దేవా
నమో సూర్య దేవా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
Rj Anand Prajapati
कैसे गीत गाएं मल्हार
कैसे गीत गाएं मल्हार
Nanki Patre
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
■ फेसबुकी फ़र्ज़ीवाड़ा
*Author प्रणय प्रभात*
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
Stop chasing people who are fine with losing you.
Stop chasing people who are fine with losing you.
पूर्वार्थ
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
Suryakant Dwivedi
अब किसी से
अब किसी से
Dr fauzia Naseem shad
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
आजा मेरे दिल तू , मत जा मुझको छोड़कर
gurudeenverma198
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
हारता वो है जो शिकायत
हारता वो है जो शिकायत
नेताम आर सी
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
"बखान"
Dr. Kishan tandon kranti
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
Colours of heart,
Colours of heart,
DrChandan Medatwal
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
Loading...