Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-227💐

इश्क़ में कोई कितनी दूरी है,तुम भले मानो,
इश्क़ में कोई दूरी नहीं है, तुम भले मानो।

©®अभिषेक:पाराशरः”आनन्द”

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विभाजन की पीड़ा
विभाजन की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
हिरण
हिरण
Buddha Prakash
बस तुम्हारी कमी खलती है
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
ज़िंदगी ख़्वाब
ज़िंदगी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
हार में जीत है, रार में प्रीत है।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
ऐतिहासिक भूल
ऐतिहासिक भूल
Shekhar Chandra Mitra
*कौशल्या (कुंडलिया)*
*कौशल्या (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गीत गा रहा फागुन
गीत गा रहा फागुन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
'अशांत' शेखर
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
Shashi kala vyas
245.
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
Rohit yadav
दिल में हमारे देशप्रेम है
दिल में हमारे देशप्रेम है
gurudeenverma198
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
अरविंद सवैया
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
भरोसा प्यार उम्र भर का,
भरोसा प्यार उम्र भर का,
Satish Srijan
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-169💐
💐प्रेम कौतुक-169💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...