Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

इश्क़ जोड़ता है तोड़ता नहीं

जो उसने तुम्हें दिल से निकाल दिया
तू भी उसे अब छोड़ दे
उसकी सहेली भी तो अच्छी है
तू उसी से अपना दिल जोड़ दे

क्या फ़ायदा उस राह पर चलने का
जिसकी कोई मंज़िल नहीं
बदलकर देख अपनी राह एक बार
रहती एक सी हमेशा किस्मत नहीं

तू क्यों पछताता है जो वो चली गई
क्यों सोचता है तेरी किस्मत छली गई
एक बार दिल लगाकर देख किसी और से
फिर अहसास होगा तुम्हें, वो भली गई

जो प्यार तुम्हें मिला नहीं उससे कभी
मिल जायेगा वो भी, होगा तेरी किस्मत में अगर
अब यूं आंसू बहाने से तेरा कुछ होगा नहीं
इतनी आसान भी नहीं है ये चाहत की डगर

कुछ तुमने पाया कुछ उसने पाया
यहां किसी ने है नहीं कुछ खोया
दिलों को जोड़ने का नाम है इश्क तो
उसने कहीं और जोड़ा तो तू क्यों रोया

देख ले थामकर तू भी हाथ किसी का
फिर बनाकर दिल में तस्वीर उसी की
जो बदल दे फिर से ज़िंदगी तेरी
संवार दे तू भी किस्मत ऐसे किसी की।

Language: Hindi
9 Likes · 2 Comments · 1240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
"तुम्हें याद करना"
Dr. Kishan tandon kranti
*मंगलकामनाऐं*
*मंगलकामनाऐं*
*प्रणय प्रभात*
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
आईना
आईना
Sûrëkhâ
वेला
वेला
Sangeeta Beniwal
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोस्त न बन सकी
दोस्त न बन सकी
Satish Srijan
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
Kumar lalit
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
रावण की गर्जना व संदेश
रावण की गर्जना व संदेश
Ram Krishan Rastogi
प्रेम पर्व आया सखी
प्रेम पर्व आया सखी
लक्ष्मी सिंह
कविता
कविता
Rambali Mishra
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
जो मिला ही नहीं
जो मिला ही नहीं
Dr. Rajeev Jain
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
भाई
भाई
Dr.sima
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नहीं हूँ अब मैं
नहीं हूँ अब मैं
gurudeenverma198
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
संवेदना अभी भी जीवित है
संवेदना अभी भी जीवित है
Neena Kathuria
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
बचा ले मुझे🙏🙏
बचा ले मुझे🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
*आओ पाने को टिकट ,बंधु लगा दो जान : हास्य कुंडलिया*
*आओ पाने को टिकट ,बंधु लगा दो जान : हास्य कुंडलिया*
Ravi Prakash
Loading...