Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

इबादत आपकी

परमूल्यांकन की न हो
किसी से कभी अपेक्षा ।
स्वयं को पहचानने की हो
जो दृष्टि आपकी ।।

रिक्त न हो मन जब
तेरा विषयों से ।
कैसी पूजा फिर कैसी
इबादत आपकी ॥

सम्बन्धों में कभी न हो
कलह, कलुषता ।
कर्तव्यों के प्रति हो जो
निष्ठा आपकी ।।

जीवन यात्रा में सन्तुष्टि
संभव हो फिर ।
सबकी प्रसन्नता में हो
जो प्रसन्नता आपकी ।।

परनिंदा कभी किसी की
कर न पाओ।
अपने दोषों पर भी हो
जो दृष्टि आपकी ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
5 Likes · 84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
नयनों का वार
नयनों का वार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
दोहे बिषय-सनातन/सनातनी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दादाजी (कुंडलिया)
दादाजी (कुंडलिया)
Ravi Prakash
हम लिखते हैं
हम लिखते हैं
Dr. Kishan tandon kranti
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
आदमी
आदमी
अखिलेश 'अखिल'
■ मोहल्ला ज़िंदा लोगों से बनता है। बस्ती तो मुर्दों की भी होत
■ मोहल्ला ज़िंदा लोगों से बनता है। बस्ती तो मुर्दों की भी होत
*Author प्रणय प्रभात*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
SHAMA PARVEEN
वैष्णों भोजन खाइए,
वैष्णों भोजन खाइए,
Satish Srijan
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
DrLakshman Jha Parimal
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
कवि रमेशराज
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
मोह लेगा जब हिया को, रूप मन के मीत का
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस
Shekhar Chandra Mitra
सत्य खोज लिया है जब
सत्य खोज लिया है जब
Buddha Prakash
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
समय
समय
Paras Nath Jha
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
अपनेपन का मुखौटा
अपनेपन का मुखौटा
Manisha Manjari
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Akash Yadav
Loading...