Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-551💐

इन पयामों के सिवाए कुछ और किया क्या है,
सब ख़त्म होगा यहाँ फिर कहोगे किया क्या है,
शर्माते हो दिल लगाने के वास्ते ताक़त चाहिए दोस्त,
मुझ तक पहुँचने के लिये तुमने किया क्या है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”
तुम सब फट्टू हो।मर जाओ।नाबालिग।

Language: Hindi
573 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
उफ ये सादगी तुम्हारी।
उफ ये सादगी तुम्हारी।
Taj Mohammad
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
Arvind trivedi
"वो अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
सौंदर्यबोध
सौंदर्यबोध
Prakash Chandra
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
सम्मान करे नारी
सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
बेगुनाही एक गुनाह
बेगुनाही एक गुनाह
Shekhar Chandra Mitra
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
■ हर दौर में एक ही हश्र।
■ हर दौर में एक ही हश्र।
*Author प्रणय प्रभात*
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
3432⚘ *पूर्णिका* ⚘
3432⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
फिर जनता की आवाज बना
फिर जनता की आवाज बना
vishnushankartripathi7
तन्हा -तन्हा
तन्हा -तन्हा
Surinder blackpen
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
लक्की सिंह चौहान
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
Loading...