Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 17, 2016 · 1 min read

इन्द्र मेघ भेज दो

बड़ा प्रचण्ड ताप अंश में इसे न माप दीन का हुआ विलाप क्योंकि देह थी जली हुई
न पुष्प ही खिला न वृक्षपत्र ही हिला न काल में दया दिखी विनष्ट टूट के कली हुई
असीम वेदना विदग्ध मेदिनी सुना रही प्रतीत हो रही कि मर्त्य मूंग सी दली हुई
सुनो मही पुकारती पुकारते समस्त जीव इन्द्र मेघ भेज दो न ग्रीष्म ये भली हुई
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

237 Views
You may also like:
रफ्तार
Anamika Singh
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यादें
kausikigupta315
पिता
Santoshi devi
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल राजू
Anamika Singh
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
*"पिता"*
Shashi kala vyas
पिता
विजय कुमार 'विजय'
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...