Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2016 · 1 min read

इजहार-ए-मुहब्बत

कुछ हर्फ़ रखे हैं मैंने
चुन कर लिफ़ाफ़े में
जो आते थे जुबां तक
और रुक जाते थे
कहना चाहता था मैं
मेरे लबों में सिमटकर रह गए
हर रोज बटोरता था मैं
यहाँ वहां से बिखरे हर्फ़
और फिर बुनता था
एक तानाबाना
काटछाँट करता था लफ्जों की
एक कुशल दर्जी की तरह
ताकि बन सके खूबसूरत सा
एक नज्म में ढला लिबास
सुनकर जिसको
हो जाओ तुम मदहोश
हो के बेखबर जहां से
कह दो मेरे दिल की बात
तुम्हारी जुबां से निकले
आब-ऐ-हयात मेरे दिल का
मिल जाए सुकून मेरी रूह को
मिट जाए बंधन जिस्मों का
एक हो जाएँ दो रूहें
मैं और तुम से बन जाएँ हम
मै नहीं चाहता करना इन्तजार
तुम कहो और मै सुनूँ
खुद ही कह देना चाहता हूँ
” इश्क है मुझे तुमसे
बेइन्तहा मुहब्बत है मुझे
क्या तुम भी करती हो
प्यार मुझसे ।
अपनाओगी मुझे”

” सन्दीप कुमार “

Language: Hindi
493 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अबकी जाड़ा कबले जाई "
Rajkumar Bhatt
#ग़ज़ल :--
#ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
कविता -
कविता - "बारिश में नहाते हैं।' आनंद शर्मा
Anand Sharma
यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि श
यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि श
Ms.Ankit Halke jha
बचपन
बचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
Ranjeet kumar patre
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
एक दिवाली ऐसी भी।
एक दिवाली ऐसी भी।
Manisha Manjari
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ख़्वाब कोई कहां मुकम्मल था
ख़्वाब कोई कहां मुकम्मल था
Dr fauzia Naseem shad
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
Neelam Sharma
फ़क़त मिट्टी का पुतला है,
फ़क़त मिट्टी का पुतला है,
Satish Srijan
फितरत सियासत की
फितरत सियासत की
लक्ष्मी सिंह
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kabhi jo dard ki dawa hua krta tha
Kumar lalit
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
अजब गजब
अजब गजब
साहिल
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
गुजरा पिछला साल *(गीत)*
गुजरा पिछला साल *(गीत)*
Ravi Prakash
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
Loading...