Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

इक नजर

*गीतिका*
मापनी-122 122 122 12

हमें आपकी इक नजर चाहिये।
कयामत भरी बा-असर चाहिये।

बना आशियां हम जहां पर रहें।
हमें प्रेम का वो शजर चाहिये।

न हों बंदिशें ही किसी की जहाँ।
हमें यार ऐसा शहर चाहिये।

जहाँ से हमेशा खुले नैन ये।
अरी जिंदगी! वो सहर चाहिये।

बुझे प्यास ना ही दिलों की कभी।
हमें प्यार में वो कसर चाहिये।

बने प्यार दोनों हदें आखिरी।
हमें प्यार का ये असर चाहिये।

पढे मौन मेरा बिना कुछ कहे।
मुझे आज ऐसा बशर चाहिये।

इषुप्रिय शर्मा’अंकित’
सबलगढ(म.प्र.)

1 Comment · 244 Views
You may also like:
पेपर वाला
मनोज कर्ण
दहेज़
आकाश महेशपुरी
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD KUMAR CHAUHAN
*अजीब-सा व्यापार है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
तुम मुझे सोच
Dr fauzia Naseem shad
लिपि सभक उद्भव आओर विकास
श्रीहर्ष आचार्य
कस्तूरी मृग
Ashish Kumar
पढ़ी लिखी लड़की
Swami Ganganiya
हे गणपति गणराज शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बगावत का बिगुल
Shekhar Chandra Mitra
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
■ कटाक्ष / सेल्फी
*प्रणय प्रभात*
అభివృద్ధి చెందిన లోకం
विजय कुमार 'विजय'
सुन ओ दीपावली तू ऐसे आना
gurudeenverma198
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
शेर
Shriyansh Gupta
जितना सताना हो,सता लो हमे तुम
Ram Krishan Rastogi
पूछ रहा है मन का दर्पण
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
इक रहनुमां चाहती है।
Taj Mohammad
✍️बिच की दिवार✍️
'अशांत' शेखर
चरित्र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
💐💐 सूत्रधार 💐💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोस्ती और दुश्मनी
shabina. Naaz
Writing Challenge- दोस्ती (Friendship)
Sahityapedia
चौपई छंद ( जयकरी / जयकारी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
हम भारतीय हैं..।
Buddha Prakash
Loading...