Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-263💐

इक अदद मुस्कुराहट की ज़रूरत थी मुझे,
बीमार-ए-अक़्ल,बे-एतिबार की निशानी दी।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
71 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
बरसात और तुम
बरसात और तुम
Sidhant Sharma
नज़रिया
नज़रिया
Dr. Kishan tandon kranti
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
लड़खड़ाने से न डर
लड़खड़ाने से न डर
Satish Srijan
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
#यादों_का_झरोखा-
#यादों_का_झरोखा-
*Author प्रणय प्रभात*
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग  (कुंडलिया)*
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम हो मेरे लिए जिंदगी की तरह
तुम हो मेरे लिए जिंदगी की तरह
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
Rajesh vyas
ससुराल का परिचय
ससुराल का परिचय
Seema gupta,Alwar
आत्मा को ही सुनूँगा
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
हर खिलते हुए फूल की कलियां मरोड़ देता है ,
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नयनों का वार
नयनों का वार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Kavita Chouhan
"अस्थिरं जीवितं लोके अस्थिरे धनयौवने |
Mukul Koushik
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
उफ्फ यह गर्मी (बाल कविता )
श्याम सिंह बिष्ट
यादे
यादे
Dr fauzia Naseem shad
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
Ravi Ghayal
खुद के करीब
खुद के करीब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
नाम के अनुरूप यहाँ, करे न कोई काम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
Shivam Sharma
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
क्या करें वे लोग?
क्या करें वे लोग?
Shekhar Chandra Mitra
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
हिन्दू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।
निशांत 'शीलराज'
Loading...