Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

इक्कीसवीं सदी के सपने… / MUSAFIR BAITHA

मैंने 21 सदी के आगाज़ वर्ष, सन 2000 में छात्रोपयोगी हिंदी पत्रिका ‘प्रतियोगिता दर्पण’ द्वारा आयोजित ‘इक्कीसवीं सदी के सपने’ शीर्षक एक निबंध प्रतियोगिता में भाग लिया था और प्रथम पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया था।

अभी 21 वीं सदी के 100 सालों में से प्रथम 22 साल बीत चुके हैं। यानी, सपाट गणितीय आकलन प्रस्तुत करें तो आज 21वीं सदी का 20% अथवा पाँचवाँ हिस्सा बीत चुका है।

मैंने अपने उस पुरस्कृत आलेख में जो वर्तमान की धूप-छांव प्रस्तुत की थी और 21वीं सदी के सपने देखे थे, धूप को रीतते और छाँव को गहराते जाने के सपने डाले थे वे इक्कसवीं सदी के इन बीते बीस सालों में बिल्कुल आशानुकूल नहीं रहे हैं बल्कि धूप की सघनता और कड़वाहट बढ़ती ही मिली है।

रीतने के बिल्कुल कगार पर आ खड़ा हुआ, अंतिम दिन में आ पहुँचा यह वर्ष 2020 भी कोई उम्मीद नहीं दे रहा बल्कि समाज में सहज, सम्मानजनक, कर्तव्य एवं अधिकारपूर्ण लोकतांत्रिक जीवन जीने की स्थितियां अभिभावक (शासन तंत्र) द्वारा ही दुष्कर बनाई जा रही हैं।

उम्मीदें कुछ भी नहीं हैं, अंधेरा घना है। एक सजग-सफ़ल-समर्थक नागरिक होने, नागरिक जीवन जीने में बाधक स्थितियों के घटाटोप के मूल में शासन-सत्ता ही है। वे अपने नागरिकों के प्रति अपने कर्तव्य नहीं निभा रहे और अधिकार नहीं ले रहे।

हम उम्मीद करें कि हमारा देश, हमारा समाज निरंतर बेहतर बने, अच्छाइयों से समृद्ध हो; हम व्यक्तिगत, सांगठनिक, सामूहिक रूप से एक संवेदनशील एवं मानवाधिकारपूर्ण समाज के निर्माण में अपना योगदान दें।

Language: Hindi
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना
gurudeenverma198
शुद्धिकरण
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बेटा
बेटा
Neeraj Agarwal
अपनी तस्वीर
अपनी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
*सभी को चाँद है प्यारा, सभी इसके पुजारी हैं ( मुक्तक)*
*सभी को चाँद है प्यारा, सभी इसके पुजारी हैं ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
जीवन
जीवन
Monika Verma
If you migrate to search JOBS
If you migrate to search JOBS
Ankita Patel
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
23/174.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/174.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
नारी को सदा राखिए संग
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
पूर्वार्थ
भूल गई
भूल गई
Pratibha Pandey
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
Aryan Raj
Bahut fark h,
Bahut fark h,
Sakshi Tripathi
आदरणीय क्या आप ?
आदरणीय क्या आप ?
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मरीचिका
मरीचिका
लक्ष्मी सिंह
"बात सौ टके की"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे लगता था
मुझे लगता था
ruby kumari
Loading...