Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2022 · 1 min read

इंसानी दिमाग

प्रभु का यह कमाल तुम देखो धरा पर,
पंछी पशु प्रकृति ना जाने क्या क्या बना दिया।
और फिर धरती बने यह स्वर्ग खूबसूरत,
इसलिए अंत में एक इंसान भी बना दिया।।
सब हैं एक दूजे के पूरक यह कमाल भी,
धरती पर करके प्रभु ने दिखा दिया।।
सबको सबसे भिन्न बनाने के कारण।
तुलना का किस्सा ही देखो मिटा दिया।।
जिम्मेदारी दी इंसान को इस धरती को।
स्वर्ग से भी ज्यादा सुंदर बनाने की।।
और दिमाग जो नहीं दिया किसी को प्रभु ने
सोचने की खातिर बस इंसान में लगा दिया।।
अब कमाल देखो दिमाग का जिसने।
इंसान को क्या क्या करना सिखा दिया।।
वफादारी की परख में इंसान ने सबसे।
बड़ा वफादार ही कुत्ते को बता दिया।।
रंग बदलना जो फितरत थी गिरगट की।
गिरगट से ज्यादा रंग बदल कर दिखा दिया।।
सबको मिलजुल कर रहने का पाठ जो।
प्रभु ने बनाया था केवल इंसान के लिए।।
तेरे मेरे के चक्कर में इंसानी दिमाग ने।
उसको अपना घर तोड़ना ही सीखा दिया।।
प्रभु भी सोच रहा अब बैठकर क्या क्या।
सोचकर इस इंसान को मैने बना दिया।।
स्वर्ग बनाने की खातिर भेजा था धरती पर।
और इसने तो सारी धरा को ही नर्क बना दिया।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
6 Likes · 237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
सावन भादो
सावन भादो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"यह कैसा नशा?"
Dr. Kishan tandon kranti
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
2546.पूर्णिका
2546.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
*सुख से सबसे वे रहे, पेंशन जिनके पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आज नहीं अभी 😊😊
■ आज नहीं अभी 😊😊
*प्रणय प्रभात*
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
बीज
बीज
Dr.Priya Soni Khare
जाने क्यूं मुझ पर से
जाने क्यूं मुझ पर से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
प्रदाता
प्रदाता
Dinesh Kumar Gangwar
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
बुरा नहीं देखेंगे
बुरा नहीं देखेंगे
Sonam Puneet Dubey
* मधुमास *
* मधुमास *
surenderpal vaidya
सुविचार
सुविचार
Dr MusafiR BaithA
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
You lived through it, you learned from it, now it's time to
You lived through it, you learned from it, now it's time to
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
Loading...