Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2016 · 1 min read

इंसानियत

इंसानियत
********

होगा ताकतवर बहुत वो, पर भगवान तो नही है।
जमीर खरीद ले किसी का, इतना धनवान तो नही है।
.
दम तोड़ दिया इंसानियत ने, चौराहे पर चीखते चीखते
लगता तो ये शहर है, कोई वीरान तो नही है।
.
ना होगा कभी भी जुल्म, अब किसी मजलूम पर
हुकूमत का अब तक ऐसा, कोई फरमान तो नही है।
.
अमनों चैन की बस बारिशें, सदा होती रहे यहाँ
इससे बढ़कर खुदा मेरा, कोई अरमान तो नही है।
.
बनाकर भेजा है उसने तो, इंसान ही सभी को
देख लो कहीं कोई हिंदू, या मुसलमान तो नही है।
.
करेगा हिसाब ‘सुरेश’ वो, कयामत के दिन सभी का
आखिर खुदा है वो भी, कोई नादान तो नही है।

1 Like · 2 Comments · 457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सपना
सपना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
क्यूँ ये मन फाग के राग में हो जाता है मगन
Atul "Krishn"
कितना बदल रहे हैं हम
कितना बदल रहे हैं हम
Dr fauzia Naseem shad
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
जनता जनार्दन
जनता जनार्दन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गरीबी
गरीबी
Neeraj Agarwal
*अभी तो रास्ता शुरू हुआ है.*
*अभी तो रास्ता शुरू हुआ है.*
Naushaba Suriya
दीवाना हूं मैं
दीवाना हूं मैं
Shekhar Chandra Mitra
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
_सुलेखा.
*कुछ रंग लगाओ जी, हमारे घर भी आओ जी (गीत)*
*कुछ रंग लगाओ जी, हमारे घर भी आओ जी (गीत)*
Ravi Prakash
*** हम दो राही....!!! ***
*** हम दो राही....!!! ***
VEDANTA PATEL
"संवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
क्यों मानव मानव को डसता
क्यों मानव मानव को डसता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
Dr. Man Mohan Krishna
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
एक रूपक ज़िन्दगी का,
एक रूपक ज़िन्दगी का,
Radha shukla
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
आप कौन है, आप शरीर है या शरीर में जो बैठा है वो
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
Anil chobisa
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...