Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*

आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए
*********************************

आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए,
गा रहें नगमें तराने गम छुपाने के लिए।

हिल गई सारी जमीं रो भी रहा है आसमां,
आ गये नभ से सितारे पल मनाने के लिए।

आ रहे हम पास जितना दूर उतना जा रहे,
क्यों बनाते हो बहाने तुम दूर जाने के लिए।

सोचकर आये हमीं तुझको भगाने आज ही,
रहगुजर में हम पधारे चित लुभाने के लिए।

यार मनसीरत खड़ा कब से यहाँ तेरे लिए,
देर से आये ठिकाने मुख दिखाने के लिए।
*********************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पूर्णिमा की चाँदनी.....
पूर्णिमा की चाँदनी.....
Awadhesh Kumar Singh
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
प्रेम की तलाश में सिला नही मिला
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
#KOTA
#KOTA
*प्रणय प्रभात*
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
ଚୋରାଇ ଖାଇଲେ ମିଠା
Bidyadhar Mantry
मजबूरी
मजबूरी
The_dk_poetry
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
दो शरारती गुड़िया
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
तुम सम्भलकर चलो
तुम सम्भलकर चलो
gurudeenverma198
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
Dr MusafiR BaithA
"लकीरों के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
सफर कितना है लंबा
सफर कितना है लंबा
Atul "Krishn"
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जन्म मरण न जीवन है।
जन्म मरण न जीवन है।
Rj Anand Prajapati
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
Vivek Mishra
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
रुत चुनाव की आई 🙏
रुत चुनाव की आई 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
VINOD CHAUHAN
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
काम,क्रोध,भोग आदि मोक्ष भी परमार्थ है
काम,क्रोध,भोग आदि मोक्ष भी परमार्थ है
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...