Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

वक़्त।

बेशुमार नाकामियों के बाद,
जब कामयाबी का सूरज जगमगाता है,
ज़िन्दगी हो जाती है तारो से सजी,
हर दिन दिल को लुभाता है,
बुरे दौर में लगता है ऐसे,
जैसे वक़्त ये मुँह चिढ़ाता है,
थोड़ी गहराई में उतर के देखो,
ये वक़्त ही हौंसला बढ़ाता है,
नाकामी से हर राह बंद दिखती,
लगा हो जीवन पे अंधेरे का ताला,
हार ना मानो धीर धरो,
अभी देगा दस्तक कोई उजाला,
साधारण से असाधारण बनाने को ही,
ये वक़्त आज़माइश करता है,
फटे हाल भी एक सच्चा दिलदार,
मुस्कान की नुमाइश करता है I

कवि-अम्बर श्रीवास्तव

Language: Hindi
2 Likes · 327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पेड़ लगाओ तुम ....
पेड़ लगाओ तुम ....
जगदीश लववंशी
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
शिव
शिव
Dr Archana Gupta
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan Alok Malu
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
निर्धन बिलखे भूख से, कौर न आए हाथ।
निर्धन बिलखे भूख से, कौर न आए हाथ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
💐प्रेम कौतुक-360💐
💐प्रेम कौतुक-360💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होंसला
होंसला
Shutisha Rajput
इंसान चाहे कितना ही आम हो..!!
इंसान चाहे कितना ही आम हो..!!
शेखर सिंह
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
इतिहास
इतिहास
श्याम सिंह बिष्ट
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
#चलते_चलते
#चलते_चलते
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"वक्त वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
ठंडी क्या आफत है भाई
ठंडी क्या आफत है भाई
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...