Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

आसमां में चांद प्यारा देखिए।

गज़ल

2122…..2122……212
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
है कहां अपना सितारा देखिए।

मत रखो मेरे सितारे पर नजर,
ये नहीं मुझको गवारा देखिए।

हर तरफ हैं फूल खुशबू तितलियां,
देखना जी भर नज़ारा देखिए।

दूसरों पर मत उठाओ उंगलियां,
दागी है दामन तुम्हारा देखिए।

मत गिराओ झोपड़ी उस दीन की,
वो सड़क पर है बेचारा देखिए।

खा रहे हैं देश को बेखौफ सब,
देश के सेवक नकारा देखिए।

मिलते हैं प्रेमी प्रभू उसको सदा,
प्यार से जिसने पुकारा देखिए।

…….✍️ सत्य कुमार प्रेमी

79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी मर्ज़ी के
अपनी मर्ज़ी के
Dr fauzia Naseem shad
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
*गठरी धन की फेंक मुसाफिर, चलने की तैयारी है 【हिंदी गजल/गीतिक
*गठरी धन की फेंक मुसाफिर, चलने की तैयारी है 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
श्रृष्टि का आधार!
श्रृष्टि का आधार!
कविता झा ‘गीत’
"उई मां"
*प्रणय प्रभात*
"अभिलाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
तमाशा जिंदगी का हुआ,
तमाशा जिंदगी का हुआ,
शेखर सिंह
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Juhi Grover
Next
Next
Rajan Sharma
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
Dr.Pratibha Prakash
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान : कर्नल सी. के. नायडू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
Sushila joshi
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
Manisha Manjari
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
मेरा दिल
मेरा दिल
SHAMA PARVEEN
* सिला प्यार का *
* सिला प्यार का *
surenderpal vaidya
मेरी प्रेरणा
मेरी प्रेरणा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किस्मत भी न जाने क्यों...
किस्मत भी न जाने क्यों...
डॉ.सीमा अग्रवाल
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...