Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 1 min read

आशा

आशा

आशा, संकल्प, श्रद्धा, ज्ञान का कर वरण
तिमिर ने ओढा शुभ्र वितान
आ रहा अब अलौकिक,दिव्य विहान
संवेदना का किरीट,स्वर्णरश्मि का दिव्य ज्ञान
प्रशस्त है नव दिशा, नूतन आयाम
प्रमाद, द्वेष नानृत की भर्त्सना करूँ
मृदुल भावनाओं, आकांक्षाओं, संवेदनाओं की
सर्जना करूँ
निर्झर,निर्मल,मृदुल कल्पनाओं के परों पर लक्ष्य को साकार करूँ
तमस, नैराश्य से निस्सरित जीवन का श्वास भरूँ
तारक-खंचित, रजत रचित प्रारब्ध की कल्पना करूँ
जर्जर,क्षीण,क्षुधातुर प्राणीआशा की ज्योति से कर्म रत हो
संकल्पवान प्राणी दृढनिश्चय में आबद्ध हो
आशा की साधना करूँ,पुरुषार्थ की वन्दना करूँ
संस्कार,सभ्यता,श्रद्धा की मंगलकामना करूँ
सर्वहिताय आरोग्य-निरोग की प्रार्थना करूँ
आशा, उत्स जीवन मरुभूमि की साहस संयम का अलख प्रज्ज्वलित कर सकारात्मक लक्ष्य की कामना करूँ
अपरिसीम संवेदनाओं संभावनाओं के कपाट खोल दूँ
इन्द्रियों के वातायन को अंतस की असीमता से जोड़ दूँ
आशा को शक्ति का उपहार अनमोल दूँ
जीवन को सृजन की भक्ति बोल दूँ

सुनील पुष्करणा

Language: Hindi
1 Like · 345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
Shashi kala vyas
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
Taj Mohammad
"एक शोर है"
Lohit Tamta
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
“दुमका दर्पण” (संस्मरण -प्राइमेरी स्कूल-1958)
DrLakshman Jha Parimal
बुद्ध धाम
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
"नवसंवत्सर सबको शुभ हो..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
💐अज्ञात के प्रति-121💐
💐अज्ञात के प्रति-121💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*मुबारक हो मुबारक हो मुबारक हो(हिंदी गजल/ गीतिका)*
*मुबारक हो मुबारक हो मुबारक हो(हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
कृषक
कृषक
साहिल
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
कोई हुनर खुद में देखो,
कोई हुनर खुद में देखो,
Satish Srijan
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
Dr MusafiR BaithA
"यादों के अवशेष"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी सीमाओं को लांगा
अपनी सीमाओं को लांगा
कवि दीपक बवेजा
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...