Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

आशा

संपूर्ण धरा पर फिर नूतन वैभव होगा ।
प्रसन्नता का फिर से नव उद्भव होगा।।

विश्वास है फिर से सुखद दिन आयेंगे,
निराशा भरे दिन बीत ही जायेंगे।
नई सुबह होगी फिर से धरणी पर,
दुःख के सारे बादल छंट ही जायेंगे।
मुड़कर देखेंगे पीछे जब अतीत को,
तब हमें एक नया ही अनुभव होगा ।
प्रसन्नता का फिर से नव उद्भव होगा।।

आशा पर ही है सुबह और सायम् ,
निराश होकर क्यों कर जायें पलायन?
नव आत्मबल अर्जित करना होगा,
कहते हैं उम्मीद पर दुनिया है कायम।
हरसंभव मुकाबला करेंगे अंधियारे से,
दृढ़विश्वास से ही नूतन सूर्योदय होगा ।
प्रसन्नता का फिर से नव उद्भव होगा।।

अब बस कुछ ही दिन का संघर्ष होगा,
फिर से दसों दिशाओं में नव हर्ष होगा।
संपूर्ण विश्व का फिर कल्याण होगा,
अखिल राष्ट्र का नवल उत्कर्ष होगा।
विहंगम दृश्य फिर होगा धरती मां का,
पंछियों का सुखद नव कलरव होगा,
प्रसन्नता का फिर से नव उद्भव होगा।।

– नवीन जोशी ‘नवल’

Language: Hindi
1 Like · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नवीन जोशी 'नवल'
View all
You may also like:
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
#प्रासंगिक
#प्रासंगिक
*Author प्रणय प्रभात*
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
"जानो और मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
Surinder blackpen
धर्म निरपेक्षता
धर्म निरपेक्षता
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
gurudeenverma198
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐Prodigy Love-16💐
💐Prodigy Love-16💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पर्दाफाश
पर्दाफाश
Shekhar Chandra Mitra
ह्रदय के आंगन में
ह्रदय के आंगन में
Dr.Pratibha Prakash
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
*दीवाली मनाएंगे*
*दीवाली मनाएंगे*
Seema gupta,Alwar
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
तुकबन्दी अब छोड़ो कविवर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
2814. *पूर्णिका*
2814. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*मॉं : शत-शत प्रणाम*
*मॉं : शत-शत प्रणाम*
Ravi Prakash
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
मिलना हम मिलने आएंगे होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
Loading...