Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

आया है फागुन आया है

लगी है थाप चंग पर,चली है रंग की पिचकारी।
गीत गा रही फागुन के, झूमकर यह दुनिया सारी।।
आया है फागुन आया है, आया है फागुन आया है।
लगी है थाप चंग पर——————–।।

करो नहीं बात अब ऐसी, उदासी चेहरे पर छाये।
खुशी की ऋतु आई है, खुशी के गीत हम गाये।।
चली है टोली रंग लेकर, हंसी से झोली भर सारी।
गीत गा रही फागुन के, झूमकर यह दुनिया सारी।।
(आया है फागुन आया है, आया है फागुन आया है)
लगी है थाप चंग पर——————–।।

हीर ने रांझा से बोला, मोहब्बत से मुझको रंग दो।
और इस लाल रंग से, मांग तुम यह मेरी भर दो।।
मोहब्बत के रंगों से तुम, मिटने दो नफरत सारी।
गीत गा रही फागुन के, झूमकर यह दुनिया सारी।।
(आया है फागुन आया है, आया है फागुन आया है)
लगी है थाप चंग पर——————-।।

बहुत खुश हैं आज किसान, हरे खेतों को देखकर।
खेतों में इठलाती फसलें, गेहूँ की बालियां देखकर।।
जलाकर आग होली की, नाचे उनकी बस्ती सारी।
गीत गा रही फागुन के, झूमकर यह दुनिया सारी।।
(आया है फागुन आया है, आया है फागुन आया है)
लगी है थाप चंग पर——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kisne kaha Maut sirf ek baar aati h
Kumar lalit
भारत मां की पुकार
भारत मां की पुकार
Shriyansh Gupta
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्लास्टिक बंदी
प्लास्टिक बंदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
नव कोंपलें स्फुटित हुई, पतझड़ के पश्चात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
23/141.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/141.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधिकार जताना
अधिकार जताना
Dr fauzia Naseem shad
- फुर्सत -
- फुर्सत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
छंद मुक्त कविता : बचपन
छंद मुक्त कविता : बचपन
Sushila joshi
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
ये लोकतंत्र की बात है
ये लोकतंत्र की बात है
Rohit yadav
"विश्व हिन्दी दिवस"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
दूर अब न रहो पास आया करो,
दूर अब न रहो पास आया करो,
Vindhya Prakash Mishra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
Shreedhar
मां
मां
Dheerja Sharma
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
Loading...