Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

आप सुनो तो तान छेड़ दूं

गीत
आप सुनो तो तान छेड़ दूं, मन के गीत सुनाने को
सर सर सर बहती है सरिता, मन के भाव जताने को
चंदा ने चुनरी फहराई, तारों का मस्तक चूमा
इठलाई बलखाई नदिया, देख नज़ारा मन झूमा
कौन सुने अब मन की बातें, घर सागर के जाने को
आप सुनो तो तान छेड़ दूँ, मन के गीत सुनाने को।।
पोर-पोर में पीर समाई, सुबक- सुबक नैना रोये
जब जब बरसे मेघा पागल, बैठे बैठे दिल खोये
बड़ी है आकुल मन की कश्ती, खुद ही मर मिट जाने को
आप सुनो तो तान छेड़ दूँ, मन के गीत सुनाने को।।
मेरा जीवन उसका जीवन, किसका जीवन क्या कहना
रास रंग की देख तरंगे, अद्भुत हैं दिल में रखना
लहर लहर फिर लहर लहर है, सागर गंगा जाने को
आप सुनो तो तान छेड़ दूँ, मन के गीत सुनाने को।।
सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
कोई किसी का कहां हुआ है
कोई किसी का कहां हुआ है
Dr fauzia Naseem shad
वोट का सौदा
वोट का सौदा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तय
तय
Ajay Mishra
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
गुमनाम 'बाबा'
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
मकड़जाल से धर्म के,
मकड़जाल से धर्म के,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
सुख दुख जीवन के चक्र हैं
ruby kumari
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
My City
My City
Aman Kumar Holy
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं,लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
*मीठे बोल*
*मीठे बोल*
Poonam Matia
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
Loading...