Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 4 min read

आप और हम जीवन के सच ……….एक प्रयास

आप और हम जीवन के सच में प्रस्तुत कर रहे हैं एक सच और कल्पना के साथ भी सच आज की आधुनिक नारी जो कि एक मां बहन पत्नी बुआ मौसी ना जाने कितने पवित्र रिश्तों के साथ बंधी जुड़ी है परन्तु क्या?
आज इस समाज में हम आधुनिक युग में रिश्ते नाते सच की ओर ले जा रहे हैं न बस हम झूठ और छलावा और द्वेष ईषया के साथ जीवन के सच को भी झुठला से रहे हैं आप सच माने या ना माने पर जीवन का सारा दारोमदार एक नारी के साथ ही चलता है वह नारी ही जो कि एक पत्नी मां बहन बेटी का धर्म निभा सकती है हम सभी जानते और समझते हैं। परंतु आज शारीरिक मानसिक और मन की चंचलता के साथ हम सभी रिश्तों को भूलते जा रहे हैं और यही सच भी है भूलने का कारण, हम आज के माता-पिता भी संतान के पालन पोषण देखभाल पर गौर नहीं करते हैं।
आज हम बच्चों की परवरिश केलिए बाई और आया रख कर धन कमाने में लगे रहते हैं। हम सभी इसके साथ-साथ अपने बच्चों को संस्कार और रिश्ते नाते बताना भूल ही जाते हैं बस इसी भागदौड़ की जिंदगी में मानसिक उधेड़बुन के कारण हम ना रिश्ते समझ पाते हैं ना रिश्ते निभा पाते हैं क्योंकि जो सच है वह भी झूठ नजर नहीं आता है और झूठ है वह तो झूठ है ही, आज हम किसी भी बालिग या बड़ी बिटिया या लड़की को अपने रिश्ते के भाई चाचा और ऐसे और भी रिश्ते होते हैं ।
जो कि आज के युग में पवित्र होकर या न रहकर बदनाम है जिसमें एक सबसे अच्छा रिश्ता है देवर भाभी का जो कि आज आधुनिक परिवेश में सही दृष्टि से नहीं देखा जाता हैं। यह सब हमने स्क्यं ही किया हैं । सच तो यह है कि मानव के एक शरीर रचना और आज के मानव का आधुनिक रंग ढंग और पहनावा भी हमें सोचने पर मजबूर करता है। मन भावों में हम सभी कही न कही मन में सच के साथ जीने के लिए आज हम सभी तैयार नहीं है ।
क्योंकि एक कहावत है जैसी संगत वैसी रंगत और जैसा अन्न वैसा मन होता हैं। आज हम एक बात दूसरों के लिए कह देते हैं कि कलयुग चल रहा है। परन्तु आज हम परिवारों में देखते हैं लड़कियों की बढ़ती उम्र में शादी न होना और उनकी मानसिकता को न समझ पाना बस यहीं से अपराध बोध मन शुरू होता है ।
क्योंकि वह माता-पिता यह नहीं सोचते कि जो हमने जवानी में शारीरिक संबंध बनाकर बच्चे पैदा करें। तो वही इच्छा आज भी शारीरिक और बढ़ती उम्र के साथ होती है। आज जो मेरी बेटी के रूप में या बहन के रूप में परिवार में रह रही है उसको भी शारीरिक संबंध या मन भावों की अनुभूति और मानसिक चंचलता की जरूरत है।
इन सभी बातों को न देखते हुए ही हम भूल जाते हैं कि आज देश में लव जिहाद जैसे अपराध के साथ जी रहे हैं। और आज हम इंटरनेट के जमाने में भी देख सकते हैं कि बच्चे पोर्न वीडियो जरूर देख सकते हैं क्योंकि उनके मन और चंचलता माता-पिता के साथ तालमेल नहीं खाती है। और वह अंधेरी गली में भटक जाते हैं। आज सभी माता पिता अपनी जिंदगी और व्यवस्तता के कारण ,आज जीवन में कोई माता-पिता अपने बच्चों के साथ नहीं सोता है सभी को आधुनिकता में अलग बेड रूम अलग सोने के कमरे या अलग सोने का का कमरा जरूर होना चाहिए। बस आज यही अलगाव धीरे धीरे अकेलापन और मन की सोच बदल रहा है।
क्योंकि हम आज बहुत स्वार्थी हो चुके हैं सच तो यह है कि आज सबसे ज्यादा शारीरिक वासना और मन में नारियों के पहनावे को लेकर दृष्टि गलत हो चुकी है आप और हम जीवन के सच के साथ कहानी कल्पना के रूप में आधुनिक समाज का सच पढ़ रहे हैं और सच तो बहुत कड़वा है जो कि लिखा भी नहीं जा सकता है।
आजकल रिश्तों में भाभी देवर बुआ भतीजे ऐसे रिश्ते भी जो कि हम सोच भी नहीं सकते हैं। ऐसी स्थितियों में देखे जाते हैं बस हम इतना ही कह सकते हैं कि आज केवल नजर बचाकर और अपने आप को स्वच्छ और सच बता कर जीवन जीने की कला आधुनिक मानव सीख चुका है सच तो हम सभी जानते हैं आप और हम जीवन के सच में जो कि एक कटु और कड़वा सच है।
आज हम सभी पत्रिका में प्रकाशित विज्ञापन की अवेहलना नहीं करते हैं जो अर्धनग्न या अंतःवस्त्र के साथ हैं हम समाज स्वयं है बस आप और हम जीवन के सच में हम पाठक ही किरदार हैं। आप और हम जीवन सच में हकीकत और कल्पना के साथ हैं। और जिंदगी एक सफर रंगमंच का नाम है। आप और हम जीवन जीवन के सच में पढ़ते रहे। और आपकी प्रतिक्रिया का सहयोग मिले।
आप और हम जीवन के सच में अलग अलग कल्पना और हकीकत के लेख कहानी के साथ मिलते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समय
समय
Dr.Priya Soni Khare
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
नारी निन्दा की पात्र नहीं, वह तो नर की निर्मात्री है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
-- आधे की हकदार पत्नी --
-- आधे की हकदार पत्नी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
खत
खत
Punam Pande
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
"बुराई की जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
बीते साल को भूल जाए
बीते साल को भूल जाए
Ranjeet kumar patre
रिश्तों के
रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
...........
...........
शेखर सिंह
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
"संविधान"
Slok maurya "umang"
जो परिवार और रिश्ते आपने मुद्दे आपस में संवाद करके समझ बूझ
जो परिवार और रिश्ते आपने मुद्दे आपस में संवाद करके समझ बूझ
पूर्वार्थ
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
हे कृतघ्न मानव!
हे कृतघ्न मानव!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मैं
मैं
Seema gupta,Alwar
मुहब्बत
मुहब्बत
Dr. Upasana Pandey
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
दुख के दो अर्थ हो सकते हैं
Harminder Kaur
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
2899.*पूर्णिका*
2899.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
कोई इतना नहीं बलवान
कोई इतना नहीं बलवान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...