Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

आधुनिक युग और नशा

सुर्ती गांजा भांग पान धूम्रपान, मद्य पान जिंदगी का छद्म छलावा नशा गोरी छोरी हुस्न आशिकी इंसान के डोलते ईमान का नशा!!

गंजेड़ी भंगेड़ी नशेड़ी शराबी कबाबी जुआरी महान के तमाम नाम नशा बीमार कि दावा नशेमन नीशील जहरीली ड्रग एडिक्शन नए जहां के नौजवान का नशा!!

मजदूर के पसीने से टप टप टपकता दारु परिवार कि भय, भूख अर्ध ढ़के बदन बेहाल आंखो के मासूम आँसू मजबूर तकदीर, अरमान के बाप का नशा !!

तरुण छोड़ता सिगरेट कि लंबी कश का धुंआ नौजवान चरस हीरोइन, हशीश कि चिलम चिमनी को थामे दवा का मेवा ड्रग्स एक्शन का सन हीरो माँ बाप के अरमां का कातिल समाज के
बिगड़ते हालात का नशा!!

आँख सलामत फिर भी अंधे सूरज का उजाला फिर भी अँधेरा अंधी गलियों कि दौड़ नज़र आज के नौजवान का नशा!!

नशा नसीहत कि गली से गुजर जाता हद से गटर वॉटर गंगा जल जमीं जन्नत बिगड़े छैल छबीले के ज्ञान विज्ञान के भविष्य वर्तमान का नशा!!

जात पात नहीं धर्म अधर्म रिश्ता नाता मित्र शत्रु नहीं दीन ईमान नहीं ऊंच नीच नहीं भेद भाव नहीं आदमी इन्सान का पथ भ्रष्ट भ्रष्टाचार नशा!!

Language: Hindi
67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
Shweta Soni
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
शस्त्र संधान
शस्त्र संधान
Ravi Shukla
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
3215.*पूर्णिका*
3215.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
तुम होते हो नाराज़ तो,अब यह नहीं करेंगे
gurudeenverma198
"चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
इंतजार करो
इंतजार करो
Buddha Prakash
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
समय से पहले
समय से पहले
अंजनीत निज्जर
डिजिटल भारत
डिजिटल भारत
Satish Srijan
ख्याल
ख्याल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
इस धरती पर
इस धरती पर
surenderpal vaidya
* सुनो- सुनो गाथा अग्रोहा अग्रसेन महाराज की (गीत)*
* सुनो- सुनो गाथा अग्रोहा अग्रसेन महाराज की (गीत)*
Ravi Prakash
*रक्तदान*
*रक्तदान*
Dushyant Kumar
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
Loading...