Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

आधुनिक नारी

वो बहुत खूबसूरत है
और मजबूत भी,
एकदम चंचल है
और शोख भी।

वो माँ भी है
और एक बेटी भी,
संसद में जाती है
और पकाती रोटी भी।

वो हर रोल में दमदार है
क्योंकि उसका अस्तित्व
उसके अपने साथ है
वो स्वाभिमान से जीती है
और रखती खुद्दारी है
क्योंकि वो आधुनिक नारी है।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
भारत भूषण अवार्ड प्राप्त।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
बरखा रानी
बरखा रानी
लक्ष्मी सिंह
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
जीवन की सुरुआत और जीवन का अंत
Rituraj shivem verma
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
माँ की ममता के तले, खुशियों का संसार |
जगदीश शर्मा सहज
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
कौशल्या नंदन
कौशल्या नंदन
Sonam Puneet Dubey
सीप से मोती चाहिए तो
सीप से मोती चाहिए तो
Harminder Kaur
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
रे कागा
रे कागा
Dr. Kishan tandon kranti
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
sudhir kumar
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
#प्रेरक_प्रसंग-
#प्रेरक_प्रसंग-
*प्रणय प्रभात*
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
मेरी तकलीफ़ पे तुझको भी रोना चाहिए।
पूर्वार्थ
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
Ravi Prakash
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
दर्द ....
दर्द ....
sushil sarna
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
कोरे कागज पर...
कोरे कागज पर...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
आज का रावण
आज का रावण
Sanjay ' शून्य'
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
गुज़िश्ता साल
गुज़िश्ता साल
Dr.Wasif Quazi
माना   कि  बल   बहुत  है
माना कि बल बहुत है
Paras Nath Jha
🙏🙏
🙏🙏
Neelam Sharma
Loading...