Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)

आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)
_______________________________
राहत गर्मी से मिले , ठंडक का हो भाव
प्रभु जी मेघों से कहो, कर दें अब छिड़काव
कर दें अब छिड़काव, सूर्य की तपन हटाऍं
घोर घमंडी धूप , धूल अब इसे चटाऍं
कहते रवि कविराय, सभी की है यह चाहत
आधी बीती जून , मिले गर्मी से राहत
———————-+++
रचयिताः रविप्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 61 5451

285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Juhi Grover
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
देखिए
देखिए "औरत चाहना" और "औरत को चाहना"
शेखर सिंह
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
बना है राम का मंदिर, करो जयकार - अभिनंदन
Dr Archana Gupta
"कर्तव्य"
Dr. Kishan tandon kranti
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
★ IPS KAMAL THAKUR ★
वर्षा के दिन आए
वर्षा के दिन आए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
सत्ता
सत्ता
DrLakshman Jha Parimal
आईना
आईना
Sûrëkhâ
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
■ तेवरी
■ तेवरी
*प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बदलियां
बदलियां
surenderpal vaidya
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
किस्मत की लकीरों पे यूं भरोसा ना कर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
समझ
समझ
Shyam Sundar Subramanian
बीज
बीज
Dr.Priya Soni Khare
" मैं तन्हा हूँ "
Aarti sirsat
3324.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3324.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
Loading...