Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

आदमी को जिंदगी में कुछ कमाना चाहिए (हिंदी गजल/ गीतिका)

आदमी को जिंदगी में, कुछ कमाना चाहिए (हिंदी गजल/ गीतिका)
➖➖➖➖➖➖➖➖
1
आदमी को जिंदगी में, कुछ कमाना चाहिए
पर कमाना चाहिए क्या, यह तो आना चाहिए
2
रत्न-सोना और चॉंदी, सिर्फ धन होता नहीं
मोल मिट्टी-राख का भी, तो लगाना चाहिए
3
नाम में प्रभु के सुना है, शक्ति है सारी छिपी
नाम का गुणगान सबको, मिल के गाना चाहिए
4
एक दिन पा जाओगे, नौका सदृश प्रभु-नाम को
बस सरस रसधार से, उसको लुभाना चाहिए
5
जो मिली है शक्तियॉं, समझो अमानत-मात्र हैं
ज्यों कमल को जल नहीं, उनको निभाना चाहिए
6
एक दिन लेकर तुम्हें, डूबेगी लालच की बला
पाप की गठरी न यह, सिर पर चढ़ाना चाहिए
7
चार दिन की जिंदगी में, तीन दिन तो जा चुके
अब न अंतिम एक दिन को, यों गॅंवाना चाहिए
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

440 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
* सुहाती धूप *
* सुहाती धूप *
surenderpal vaidya
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
लीकछोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
लीकछोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
औरत बुद्ध नहीं हो सकती
Surinder blackpen
विषधर
विषधर
Rajesh
कान्हा घनाक्षरी
कान्हा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
Harminder Kaur
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
तू  मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
तू मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
Wakt hi wakt ko batt  raha,
Wakt hi wakt ko batt raha,
Sakshi Tripathi
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"शुद्ध हृदय सबके रहें,
*Author प्रणय प्रभात*
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
*विद्या  विनय  के  साथ  हो,  माँ शारदे वर दो*
*विद्या विनय के साथ हो, माँ शारदे वर दो*
Ravi Prakash
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
तुम कभी यह चिंता मत करना कि हमारा साथ यहाँ कौन देगा कौन नहीं
Dr. Man Mohan Krishna
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
फिर कभी तुमको बुलाऊं
फिर कभी तुमको बुलाऊं
Shivkumar Bilagrami
Loading...