Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

आज मौसम में एक

आज मौसम में एक
भीगा सुखद एहसास है
तेरा होना भी ऐ, वर्षा !
कहीं आस-पास है।

अकाश में विचरते हुए
काले मेघों के रथ पर
झुलसाने वाले ताप के
अहंकार को कर जर-जर।

बड़ी शीतल सी अठखेलियाँ हैं तेरी ,
अल्हड़ सी हवा के साथ,
बड़ी रोमांचित करती हैं
पाकर सुगन्धित एहसास।

Language: Hindi
1 Like · 22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
gurudeenverma198
व्यवहारिकता का दौर
व्यवहारिकता का दौर
पूर्वार्थ
*चाल*
*चाल*
Harminder Kaur
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
2626.पूर्णिका
2626.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आत्मबल
आत्मबल
Shashi Mahajan
"पते पर"
Dr. Kishan tandon kranti
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
कृति : माँ तेरी बातें सुन....!
कृति : माँ तेरी बातें सुन....!
VEDANTA PATEL
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
*चारों और मतलबी लोग है*
*चारों और मतलबी लोग है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
Ravi Prakash
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
😢धूर्तता😢
😢धूर्तता😢
*प्रणय प्रभात*
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
औरते और शोहरते किसी के भी मन मस्तिष्क को लक्ष्य से भटका सकती
औरते और शोहरते किसी के भी मन मस्तिष्क को लक्ष्य से भटका सकती
Rj Anand Prajapati
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
श्री गणेश वंदना
श्री गणेश वंदना
Kumud Srivastava
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...