Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

आज की जरूरत~

आज की जरूरत~

विज्ञान पढ़के वैज्ञानिक बन सकते हो, जीव विज्ञान पढ़के डॉक्टर बन सकते हो, ज्यामिति पढ़के इंजीनियर बन सकते हो। मगर एक माँ का सहारा, एक बाप की लाठी, एक बहन का रक्षक, एक भाई का सहायक व किसी मजलूम का मददगार तो तुम तभी बन सकते हो जब इंसानी तहजीब, नैतिक, न्यायिक, सामाजिक व व्यवहारिक किताबें पढ़ोगे।
~दिनेश एल० “जैहिंद”

Language: Hindi
1 Like · 369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
पिताश्री
पिताश्री
Bodhisatva kastooriya
गीत।। रूमाल
गीत।। रूमाल
Shiva Awasthi
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
Mahendra Narayan
चाँद बहुत अच्छा है तू!
चाँद बहुत अच्छा है तू!
Satish Srijan
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
Ranjeet kumar patre
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
जीवन
जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
Mohan Pandey
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
मेरी किस्मत
मेरी किस्मत
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
3273.*पूर्णिका*
3273.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पापा गये कहाँ तुम ?
पापा गये कहाँ तुम ?
Surya Barman
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
क्यूं हो शामिल ,प्यासों मैं हम भी //
गुप्तरत्न
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
वफ़ा
वफ़ा
shabina. Naaz
तंग अंग  देख कर मन मलंग हो गया
तंग अंग देख कर मन मलंग हो गया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुस्कानों की परिभाषाएँ
मुस्कानों की परिभाषाएँ
Shyam Tiwari
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
भाई
भाई
Dr.sima
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नेह धागों का त्योहार
नेह धागों का त्योहार
Seema gupta,Alwar
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...