Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

आज का दिन

आज का दिन
मौका है
बीते कल
को
परखने का
जरा सा
संभलने का
अभी हम
जिस जगह पर हैं
इससे
बेहतर होगे
यह सब
आसान है
अगर तय हो
सीमाऐं
अगर खुद
सकारात्मक
हो जायें
अपनी
तैयारी
हमको पूरी करनी
जो भी मिला है
उसकी
तरफ नजर रखनी
जो भी
अपनी ताकत
उसको
धार देनी
अपने हम
मीत बने
तब ही
यह जीवन सधे।

डा. पूनम पांडे

Language: Hindi
2 Likes · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
🐼आपकों देखना🐻‍❄️
Vivek Mishra
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लोकतंत्र बस चीख रहा है
लोकतंत्र बस चीख रहा है
अनिल कुमार निश्छल
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
चाँद
चाँद
Atul "Krishn"
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
संभावना है जीवन, संभावना बड़ी है
Suryakant Dwivedi
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*प्रणय प्रभात*
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*ऊपर से जो दीख रहा है, कब उसमें सच्चाई है (हिंदी गजल)*
*ऊपर से जो दीख रहा है, कब उसमें सच्चाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
VINOD CHAUHAN
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
दीप की अभिलाषा।
दीप की अभिलाषा।
Kuldeep mishra (KD)
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
ଅନୁଶାସନ
ଅନୁଶାସନ
Bidyadhar Mantry
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
कली से खिल कर जब गुलाब हुआ
नेताम आर सी
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
Shweta Soni
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
Aadarsh Dubey
दीदार
दीदार
Vandna thakur
Loading...