Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

आज का अभिमन्यु

क्या समाज की परिभाषा है, कैसे समाज का निर्माण हुआ है।
हर घर में कोहराम मचा है, क्यों व्यक्ति व्यक्ति से चिढ़ा हुआ है ॥
हिन्दू और मुस्लिम के नाम पर, जाती और धरम के नाम पर।
पूरब, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण, यह मेरा देश टुकड़ों में बँटा हुआ है ॥
क्यों इस देश की यह हालत है, किससे समाज यह डरा हुआ है।
इसका कारण राजनीतिज्ञ है, जिनके मन में लालच भरा हुआ है ॥
अपने फायदे के कारण ये नेता, देश और समाज को बांट रहे हैं।
अपने लालच के कारण ही ये सब, देश को जाति धर्म से काट रहे है।।
फ्री का लालच देकर जनता को, झूठ बोल कर वोट सब मांग रहे है।
जो विकास हो रहा देश का उसको, सारे मिलजुल कर के नकार रहे है॥
यह देश हमारी भी जिम्मेदारी है, इसका विकास हम इनसे मांग रहे हैं।
इसीलिए विकास के दुश्मन, मिलकर आज के अभिमन्यु के पीछे भाग रहे है।।
हर चुनाव इन्हें समझा रहा है, अब देश के सभी नागरिक जाग रहे है।
आज के अभिमन्यु को घेर कर, सारे विरोधी खुद को एक सूत्र में बांध रहे है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
Harminder Kaur
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
देश के राजनीतिज्ञ
देश के राजनीतिज्ञ
विजय कुमार अग्रवाल
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
क्षमा देव तुम धीर वरुण हो......
Santosh Soni
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
When winter hugs
When winter hugs
Bidyadhar Mantry
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
VINOD CHAUHAN
3530.🌷 *पूर्णिका*🌷
3530.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
एक नज़र में
एक नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण
पर्यावरण
Madhavi Srivastava
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
Bodhisatva kastooriya
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
दीया और बाती
दीया और बाती
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कांग्रेस के नेताओं ने ही किया ‘तिलक’ का विरोध
कांग्रेस के नेताओं ने ही किया ‘तिलक’ का विरोध
कवि रमेशराज
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
कब होगी हल ऐसी समस्या
कब होगी हल ऐसी समस्या
gurudeenverma198
*दादू के पत्र*
*दादू के पत्र*
Ravi Prakash
सैनिक
सैनिक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"आज का विचार"
Radhakishan R. Mundhra
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
पूर्वार्थ
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
Loading...