Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ

आखरी है खतरे की घंटी, बंधु होश में आ जाओ
विन पानी जीवन न होगा, जीवन का सत्य समझ जाओ
जिसकी बूंद बूंद में,सबका जीवन वसता है
बहा रहे हो ऐसे जैसे, ये बेकार और सस्ता है
पानी है अनमोल जगत में,देखो कितनी हालत खस्ता है
बूंद बूंद बचाओ सब,अब बचा एक ही रास्ता है
एक है प्यासा विन पानी के, एक नाली में बहा रहा
जान बूझ कर जल श्रोतों में, कचरा अपना बहा रहा
नहीं प्रदूषण फैलाओ,जल जंगल जमीन बचाओ
आखरी है खतरे की घंटी,बंधु होश में आ आओ
विन पानी जीवन न होगा, छोटी सी बात समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

4 Likes · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
VINOD CHAUHAN
*** लहरों के संग....! ***
*** लहरों के संग....! ***
VEDANTA PATEL
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
3476🌷 *पूर्णिका* 🌷
3476🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
Adha Deshwal
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ कला का केंद्र गला...
■ कला का केंद्र गला...
*Author प्रणय प्रभात*
कहानी- 'भूरा'
कहानी- 'भूरा'
Pratibhasharma
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
Feelings of love
Feelings of love
Bidyadhar Mantry
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी "अश्क " बहाए होगे..?
Sandeep Mishra
पिता !
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
"गलतफहमी"
Dr. Kishan tandon kranti
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
दुष्यन्त 'बाबा'
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मैं पुरखों के घर आया था
मैं पुरखों के घर आया था
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...